प्रदूषण का समाधान? दिल्ली में 10 नवंबर तक स्कूल बंद ! हवाओं में लगातार बढ़ रहा 'जहर'

प्रदूषण का समाधान? दिल्ली में 10 नवंबर तक स्कूल बंद ! हवाओं में लगातार बढ़ रहा 'जहर'
Share:

नई दिल्ली: राष्ट्रीय राजधानी में बढ़ते वायु प्रदूषण के स्तर के बीच, दिल्ली सरकार ने कक्षा 5 तक के स्कूलों को 10 नवंबर तक बंद करने का विकल्प चुना है। जबकि कक्षा 6-12 तक के स्कूल खुले रहने या ऑनलाइन शिफ्ट होने का विकल्प बरकरार रहेंगे। कक्षाओं में, युवा छात्रों को भौतिक कक्षाओं से दूर रखने के निर्णय को प्रदूषण के मूल कारणों से निपटने के लिए सरकार के दृष्टिकोण के बारे में सवालों का सामना करना पड़ा है। दरअसल, बीते कुछ सालों से दिल्ली की अरविंद केजरीवाल सरकार, पंजाब में पराली जलाने की घटनाओं को प्रदूषण के लिए जिम्मेदार बता रही थी, अब जब पंजाब में भी AAP की सरकार है, तो उसे तो दोष दिया नहीं जा सकता। बीते दो सालों से दिल्ली में हर तरह के पटाखों पर प्रतिबंध है, फिर भी प्रदूषण में गिरावट नहीं हो रही है।  

हाल ही में दिल्ली सरकार की मंत्री आतिशी मार्लेना ने एक प्रेस वार्ता में कहा था कि, उनके पास ये बताने के लिए कोई डाटा नहीं है कि, दिल्ली में प्रदूषण के पीछे क्या कारण हैं और वे कितना असर डाल रहे हैं ? जिसके बाद AAP सरकार का भारी विरोध हुआ था, लोगों का कहना था कि, बीते 10 सालों से AAP दिल्ली पर शासन कर रही है, लेकिन अब तक न तो वायु प्रदूषण रोकने के लिए कोई ठोस उपाय किए गए और न ही यमुना नदी को जहरीली होने से बचाया जा सका है। सोशल मीडिया पर लोगों का कहना है कि, अब भी सरकार प्रदूषण के मूल कारणों को खोजने के बजाए स्कूल बंद कर पल्ला झाड़ रही है। दरअसल, प्रारंभ में, दिल्ली सरकार ने घोषणा की थी कि कक्षा 5 तक के स्कूल 5 नवंबर तक बंद रहेंगे। हालांकि, शहर की वायु गुणवत्ता लगातार खराब होने के कारण विस्तार को आवश्यक समझा गया।

दिल्ली की शिक्षा मंत्री आतिशी ने बताया, "चूंकि प्रदूषण का स्तर लगातार ऊंचा बना हुआ है, इसलिए दिल्ली में प्राथमिक स्कूल 10 नवंबर तक बंद रहेंगे। कक्षा 6-12 के लिए, स्कूलों को ऑनलाइन कक्षाओं में स्थानांतरित करने का विकल्प दिया जा रहा है।" दिल्ली में लगातार छठे दिन हवा गंभीर रूप से प्रदूषित हो गई है, वायु गुणवत्ता सूचकांक (एक्यूआई) 460 तक पहुंच गया है। शहर जहरीले धुएं के घने कफन में छिपा हुआ है, जिससे श्वसन और आंखों की बढ़ती बीमारियों को लेकर स्वास्थ्य पेशेवरों के बीच चिंता बढ़ गई है। विशेषकर बच्चों और बुजुर्गों में इसका अधिक खतरा है। 

सूक्ष्म पीएम2.5 कणों में वृद्धि, जो फेफड़ों में गहराई से घुसपैठ करने और स्वास्थ्य समस्याओं का कारण बनने की क्षमता के लिए जाने जाते हैं, दिल्ली-एनसीआर के विभिन्न स्थानों में सरकार की अनुशंसित सुरक्षित सीमा 60 माइक्रोग्राम प्रति घन मीटर से सात से आठ गुना अधिक स्तर तक पहुंच गई है।  यह आश्चर्यजनक वृद्धि विश्व स्वास्थ्य संगठन की 5 माइक्रोग्राम प्रति घन मीटर की सुरक्षित सीमा से 80 से 100 गुना अधिक है। दिल्ली-एनसीआर में प्रदूषण से निपटने के लिए, केंद्र सरकार की रणनीति सभी तत्काल वायु प्रदूषण नियंत्रण उपायों के कार्यान्वयन को निर्देशित करती है, जिसमें AQI 450 से अधिक होने पर प्रदूषण फैलाने वाले ट्रकों, वाणिज्यिक चार पहिया वाहनों और निर्माण गतिविधियों पर प्रतिबंध लगाना शामिल है।

पिछले सप्ताह के दौरान, दिल्ली-एनसीआर की वायु गुणवत्ता में कई कारकों के संयोजन के कारण महत्वपूर्ण गिरावट देखी गई है, जिसमें तापमान में गिरावट, प्रदूषकों के फैलाव में बाधा डालने वाली स्थिर हवाएं और पंजाब और हरियाणा में फसल के बाद धान की पराली जलाने की घटनाओं में वृद्धि शामिल है।

केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (सीपीसीबी) के आंकड़ों के अनुसार, दिल्ली में 27 अक्टूबर से 3 नवंबर के बीच AQI 200 अंक से अधिक बढ़ गया, जिससे यह शुक्रवार को "गंभीर प्लस" श्रेणी (450 से ऊपर) में पहुंच गया। हालांकि थोड़ा सुधार देखा गया, AQI शुक्रवार शाम 4 बजे 468 से गिरकर शनिवार सुबह 6 बजे 413 हो गया, शुक्रवार को 24 घंटे का औसत AQI 468 12 नवंबर, 2021 के बाद से दर्ज किए गए सबसे खराब स्तर को दर्शाता है।

जबकि प्रदूषण संकट के जवाब में स्कूलों को बंद करने का सरकार का निर्णय युवा छात्रों की सुरक्षा के लिए एक अल्पकालिक उपाय है, इसने प्रदूषण के मूल कारणों को संबोधित करने और वायु गुणवत्ता में सुधार के लिए अधिक व्यापक और स्थायी प्रयासों की आवश्यकता के बारे में प्रासंगिक सवाल उठाए हैं।

पराली जलाने से रोकने पहुंचा जो अफसर, किसानों ने घेरकर उसी से लगवा दी आग, पंजाब के Video से मचा हड़कंप

'अभिव्यक्ति की आज़ादी का मतलब हिंसा भड़काना नहीं..', कनाडा को विदेश मंत्री जयशंकर का दो टूक सन्देश

'हिन्दुओं को कीड़े की तरह कुचल देंगे, बस हमारी सरकार आने दो..', खुली धमकी देते हुए अयान कुरेशी का Video वायरल

रिलेटेड टॉपिक्स
- Sponsored Advert -
मध्य प्रदेश जनसम्पर्क न्यूज़ फीड  

हिंदी न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_News.xml  

इंग्लिश न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_EngNews.xml

फोटो -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_Photo.xml

- Sponsored Advert -