तो इस वजह से मनाया जाता है विश्व मृदा दिवस

हर साल 5 दिसंबर को दुनिया भर में विश्व मृदा दिवस मनाया जाता है। आज के समय में मिट्टी के कटाव को कम करना जरूरी है और इस दिशा में कार्यरत भी होना जरुरी है। वह इसलिए ताकि खाद्य सुरक्षा सुनिश्चित की जा सके। वैसे मिट्टी का निर्माण विभिन्न अनुपातों में खनिज, कार्बनिक पदार्थ और वायु से होता है। जी दरअसल यह जीवन के लिए महत्वपूर्ण होती है क्योंकि इससे पौधे का विकास होता है और यह कई कीड़ों और जीवों के लिए रहने की जगह है।

केवल यही नहीं बल्कि यह भोजन, कपड़े, आश्रय और चिकित्सा सहित चार आवश्यक 'जीवित' कारकों का स्रोत भी है। इस वजह से मिट्टी का संरक्षण बहुत आवश्यक है। आप सभी को बता दें कि विश्व मृदा दिवस मनाने की शुरुआत साल 2002 में हुई थी और इसे मनाने के लिए अंतरराष्ट्रीय मृदा विज्ञान संघ ने 5 दिसंबर की तारीख रखी थी। केवल अंतरराष्ट्रीय मृदा विज्ञान संघ ने ही नहीं बल्कि खाद्य और कृषि संगठन ने भी विश्व मृदा दिवस की औपचारिक स्थापना को वैश्विक जागरुकता बढ़ाने वाले मंच के रूप में थाईलैंड के नेतृत्व में समर्थन दिया।

वहीं एफएओ के सम्मेलन ने सर्वसम्मति से जून 2013 में विश्व मृदा दिवस का समर्थन किया और 68वें संयुक्त राष्ट्र महासभा में इसको आधिकारिक रूप से मनाए जाने का अनुरोध किया। उसके बाद दिसंबर 2013 में, 68वें सत्र में संयुक्त राष्ट्र महासभा ने 5 दिसंबर को विश्व मृदा दिवस के रूप में मनाए जाने की घोषणा कर दी। सबसे पहला विश्व मृदा दिवस 5 दिसंबर, 2014 को मनाया गया था और उसके बाद से आज तक इस दिन का जश्न मनाते हैं। दुनियाभर में मृदा जागरूकता बढ़ाना और स्वस्थ पारिस्थितिकी तंत्र और मानव कल्याण को बनाए रखने के महत्व के बारे में बताने के लिए इस दिन को मनाना चाहिए।

शराब छोड़ने वाले लोगों को 1-1 लाख देगी सरकार, जानिए किसे और कब मिलेगा ये पैसा?

चीन के पूर्व राष्ट्रपति जियांग जेमिन का हुआ निधन

सावधान हो जाएं इंसान! कई हजार साल बाद मिला सबसे खतरनाक Zombie Virus

न्यूज ट्रैक वीडियो

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -