फैशन के चलते स्टाइलिश टैटू बनवाना पड़ सकता है महंगा

जैसा की आप जानते है टैटू बनवाना आजकल फास्ट ट्रेंड है। टैटू स्टाइल फैशन बन गया है। बॉडी पर ब्लैक एंड व्हाइट और कलरफुल टैटू बनवाने का फैशन काफी लोकप्रिय हो गया है। शोधकर्ताओ के एक रिपोर्ट मे टैटू को लेकर अवेयर किया गया है कि टैम्परेरी टैटू से स्किन पर फफोले और चकत्ते पड़ सकते हैं जो बहुत खतरनाक साबित हो सकता है। फैशन के लिए ये अट्रैक्टिव लूक है लेकिन सेहत के लिए खराब साबित हुआ है। आइए जाने टैटू बनाने के क्या नुकसान है।  

टैटू से इन्फेक्शन और एलर्जी

टैटू बनवाना बहुत स्टाइलिश लगता है लेकिन क्या आप जानते है इससे कई सारी बीमारियां होने की संभावना भी होती है। टैटू से स्किन पर इन्फेक्शन और एलर्जी हो सकता है। स्किन इन्फेक्शन जैसे स्किन पर सूजन, लाल निशान, मवाद आना आदि और आगे चल कर दर्द होने की संभावना भी हो सकता है। बैक्टीरियल इंफेक्शन होने का भी खतरा होता है। पर्मानेंट टैटू और नकली टैटू बनवाने की सोच रहे है तो दोनों ही बहुत खतरनाक साबित हो सकता है। इससे त्वचा पर एलर्जी हो भी सकती है।

टैटू से स्किन प्रॉब्लम और कैंसर

टैटू बनवाने से स्किन प्रॉब्लम और कैंसर का खतरा हो सकता है। इससे सोराइसिस बीमारी होने का भी खतरा होता है क्योंकि टैटू बनाने के लिए एक व्यक्ति का नीडल दूसरे व्यक्ति पर इस्तेमाल किया जाता है। इससे कई सारी बीमारियां भी हो सकती है जैसे हेपेटाइटिस, चर्म रोग, एचआईवी और स्किन कैंसर। संक्रमित बीमारियां से बचना चाहते है टैटू न बनवाए। 

टैटू से केमिकल्स का खतरा

टैटू बनाने के लिए जो स्याही का प्रयोग किया जाता है वो खतरनाक केमिकल्स से बना होता हैं, जिनसे स्किन कैंसर की संभावना हो सकती है। टैटू बनाने के लिए जो नीले रंग की स्याही प्रयोग की जाती है उसमे एल्यूमिनियम और कोबाल्ट होता है और लाल रंग की स्याही में मरक्यूरियल सल्फाइड होता है जब्कि दूसरे रंगों की स्याहियों में कैडियम, टाइटेनियम, शीशा, निकल और क्रोमियम मिला होता है। त्वचा के लिए ये केमिकल्स खतरनाक साबित हो सकता है। 

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -