उत्तरी ध्रुव पहुंचा रूस के जंगलों में लगी आग से उठ रहा धुआं, नासा ने साझा की तस्वीर

साइबेरिया (रूस) में जंगलों में लगी आग से उठ रहा धुआं उत्तरी ध्रुव तक पहुंच गया है तथा नासा ने बताया कि यह एक ऐसी त्रासदी है जो 'इतिहास में सबसे पहले घटित हुई जैसे लगती होती है'। नासा ने सैटेलाइट फोटो साझा करते हुए लिखा कि धुआं याकुटिआ से 3000 किलोमीटर से ज्यादा दूरी तय कर उत्तरी ध्रुव पहुंचा है।

आपातकाल से निपटने वाले क्षेत्रीय टास्क फोर्स के अनुसार, पूर्वोत्तर साइबेरिया के सखा-याकूतिया गणराज्य के एक दर्जन गांवों को जंगल की आग से खतरा था। विशेषज्ञों ने कहा कि दो गांवों के निवासियों को सुरक्षित क्षेत्रों में निकालने के दौरान दमकलकर्मियों को काफी मशक्कत का सामना करना पड़ा। याकूतिया के गवर्नर एसेन निकोलायेव ने कहा कि कुल 3,600 लोग आग पर काबू पाने के लिए काम कर रहे हैं। 

एजेंसी ने कहा कि यूरोपीय संघ की कॉपरनिकस एटमॉस्फियर मॉनिटरिंग सर्विस द्वारा अनुमानित कार्बन डाइऑक्साइड का उत्सर्जन इस साल जून की शुरुआत में आग लगने के बाद से 505 मेगाटन से अधिक हो गया है। 7 अगस्त, शनिवार को MODIS ने कहा, 2020 की आग का मौसम बहुत गंभीर था, लेकिन पूरे सीजन के लिए अनुमानित कुल कार्बन डाइऑक्साइड 450 मेगाटन के बराबर था। यह धुआं मुख्य रूप से साइबेरिया में सखा गणराज्य से आता है जो रूस में सबसे बड़ा गणराज्य है और बोरियल वन से भारी रूप से ढका हुआ है। बयान में कहा गया है कि सखा गणराज्य के उत्तरी हिस्से में पृथ्वी पर सबसे ठंडा तापमान दर्ज किया गया है, लेकिन इस सर्दी ने इस क्षेत्र के लिए रिकॉर्ड उच्च तापमान दर्ज किया है।

यहां कोरोना संक्रमित मरीजों से फिर भरा अस्पताल

75 फीसद आबादी को लग चुकी वैक्सीन, फिर भी ब्रिटेन में मार्च के बाद एक दिन में रिकॉर्ड कोरोना मौतें

यूएस डेमोक्रेट्स ने किया 3.5 ट्रिलियन डॉलर खर्च करने की योजना का अनावरण

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -