स्मार्टफोन यूजर्स हो जाएं सावधान, हैकर्स बना रहे बड़ा प्लान

यदि आप Smartphone का उपयोग करते हैं तो आपको सतर्क रहने की आवश्यकता है। ख़बरों का कहना है कि, 35% Android स्मार्टफोन को जल्द ही सुरक्षा पैच प्राप्त नहीं होने वाले है। पैच के बिना फोन हैकर्स की पकड़ में होने वाले है। कई स्मार्टफोन्स ऐसे हैं, जो Google के ऑपरेटिंग सिस्टम के नए वर्जन को इंस्टॉल करने में असमर्थ हो चुके है। प्रसिद्ध एंटीवायरस बिटडेफेंडर ने Android स्मार्टफोन की सुरक्षा को लेकर नई  को पेश कर दिया गया है। कंपनी के कंप्यूटर सुरक्षा विशेषज्ञ Android वितरण समस्या की ओर इशारा करते हैं।

हैकर्स के लिए खुले हैक करने के दरवाजे: ख़बरों की माने तो कि कई स्मार्टफोन अभी भी एंड्रॉइड के वर्षों पुराने वर्जन पर चलते हैं। सुरक्षा पैच से वंचित, ये पुराने वर्जन हैकर्स के पसंदीदा गेटवे हैं। बहुत से उपभोक्ता सुरक्षा पैच के महत्व को नजरअंदाज कर रहे है और निर्माता द्वारा अप्रचलित घोषित किए जाने के वर्षों बाद भी कमजोर डिवाइस का इस्तेमाल करना जारी रहने  वाला है। 

अभी भी पुराने वर्जन पर चल रहे हैं स्मार्टफोन: बिटडेफेंडर ने बोला है कि, 'हम अभी भी एक दशक पहले जारी किए गए एंड्रॉइड के वर्जन चलाने वाले उपकरणों को ढूंढ पाएंगे, और वे आपके विचार से कहीं अधिक लोकप्रिय हैं।' अपने दावों को साबित करने के लिए, कंपनी ने उन स्मार्टफ़ोन की जांच जो बिटडेफ़ेंडर ऐप का इस्तेमाल कर रहे है। बड़ी तादाद में ऐसे उपकरण हैं जो Android 12 या Android 11 में अपग्रेड नहीं हुए हैं। अब तक 36।47% स्मार्टफोन एंड्रॉइड 12 में अपडेट हुए हैं। वहीं 29।15% उपकरणों पर Android 11 चल रहा है। ध्यान दें कि Android 10 अभी भी 15।03% उपकरणों से लैस है। 

इसलिए, विश्व भर में आने वाले 35% Android स्मार्टफोन को अब सुरक्षा पैच नहीं मिलने वाले है, जिससे हैकर्स के लिए दरवाजे खुले हैं। एंड्रॉइड 10 को ध्यान में रखे बिना, हम महसूस करते हैं कि 20% डिवाइस पहले से ही कमजोर हैं। बिटडेफेंडर ने सलाह दी है कि नया डिवाइस खरीदते वक़्त इस बात का अवश्य ध्यान रखें।

अमेज़न पर मिल रहा हजारों रुपए जीतने का मौका

Jio और Vi के छक्के छुड़ाने के लिए आ रहा है Airtel का ये नया प्लान

27 सालों बाद Microsoft बंद करने जा रहा है ये खास सुविधा

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -