भारतरत्न के चक्कर में सितारा देवी ने ठुकरा दिया था पद्मश्री पुरस्कार, 8 साल में हो गई थी शादी

Nov 08 2019 06:00 AM
भारतरत्न के चक्कर में सितारा देवी ने ठुकरा दिया था पद्मश्री पुरस्कार, 8 साल में हो गई थी शादी

बॉलीवुड की टॉप हीरोइनों को कथक सिखाने वाली मशहूर कथक डांसर सितारा देवी का जन्म आज ही के दिन हुआ था. वह भारत की प्रसिद्ध कत्थक नृत्यांगना थीं और आप सभी को यह जानकर हैरानी होगी कि जन्‍म होते ही मुंह टेढ़ा होने की वजह से माता-पिता ने इन्हे खुद से अलग कर दिया था. वहीं जब वह आठ साल की थीं तो उनका विवाह कर दिया गया था. उन्हें 'धन्‍नो' से 'कथक क्‍वीन' तक के खिताब मिले और इन नामों से विख्‍यात नृत्‍यांगना सितारा देवी अब इस दुनिया में नहीं है. सितारा देवी का जन्म 8 नवंबर 1920 को कलकत्ता में हुआ था और उनका परिवार मूल रूप से वाराणसी से था.

वहीं उनके पिता सुखदेव महाराज भी एक कथक नृत्‍यकार और संस्‍कृत के विद्वान थे और माता मत्स्य कुमार के नेपाल के शाही परिवार से संबंध थे लेकिन सितारा देवी आठ साल की उम्र तक अपने माता-पिता से मिल नहीं पाई थी. जी दरअसल ऐसा कहा जाता है कि जन्म से सितारा देवी का मुंह टेढ़ा था और बेटी का टेढ़ा मुंह देखकर उनके माता-पिता डर गए और उन्हें एक दाई को सौंप दिया. उसके बाद आठ साल तक वे अपने माता-पिता से दूर रहीं और सिर्फ आठ साल की उम्र में सितारा देवी का विवाह कर दिया गया. वहीं उस दौरान उन्होंने स्कूल जाने की जिद की लेकिन इसी जिद के कारण उनकी शादी टूट गई. शादी टूटने के बाद उन्होंने पढ़ाई की और नृत्य भी सीखा. आपको बता दें कि सितारा देवी का मूल नाम धनलक्ष्मी था और घर में उन्हें धन्नो कहकर पुकारा जाता था क्योंकि उनका जन्‍म धनतेरस के दिन हुआ था. सितारा देवी ने शंभु महाराज और पंडित बिरजू महाराज के पिता अच्छन महाराज से भी नृत्य की शिक्षा ग्रहण की और 10 साल की होने के बाद वह एकल नृत्य का प्रदर्शन करने लगीं.

उन्होंने देश-विदेश में अपने कार्यक्रमों से लोगों को मंत्रमुग्‍ध किया और अपनी एक अच्छी पहचान बनाने में कामयाब रहीं. आपको बता दें कि सितारा देवी को 1969 में संगीत नाटक अकादमी सम्मान मिला. 1975 में उन्हें पद्मश्री पुरस्कार की घोषणा की गई, लेकिन उन्होंने ये इसे ये कहते हुए ठुकरा दिया कि इस जगत में उनका योगदान बहुत बड़ा है और वो भारतरत्न से कम की उम्मीद नहीं रखतीं.

दीपिका पादुकोण के 'क्लोसेट' से नवीनतम "विंटर एडिट" हुआ लॉन्च!

संजीव कुमार के जीवन पर किताब लिखेंगी रीता गुप्ता

फिल्म पागलपंती का नया पोस्टर हुआ रिलीज़, पागलपन और कॉमेडी का लगा तड़का