शुक्र प्रदोष व्रत के दिन करें इन मन्त्रों का जाप, हर मनोकामना होगी पूरी

इस समय ज्येष्ठ का महीना चल रहा है और इस महीने के शुक्ल पक्ष का पहला प्रदोष व्रत 27 मई यानी आज है। आप सभी को बता दें कि प्रदोष व्रत के दिन भगवान शिव की पूजा की जाती है। ऐसे में यह व्रत महीने में दो बार आता है एक शुक्ल पक्ष में तो एक कृष्ण पक्ष में।

आपको पता हो प्रदोष व्रत जब सोमवार के दिन आता है तो उसे सोम प्रदोष कहा जाता है। वहीं अगर प्रदोष व्रत शुक्रवार के दिन आता है तो उसे शुक्र प्रदोष कहा जाता है। ऐसे में आज शुक्रवार है तो इसी वजह से आज शुक्र प्रदोष व्रत है। ऐसे में आज शिव जी के कुछ मन्त्रों के जाप से सभी मनोकामनाओं की पूर्ति हो जाती है। तो आइए आज हम आपको बताते हैं शुक्र प्रदोष व्रत के दिन जाप किये जाने वाले मन्त्रों के बारे में।

शिव जी के मंत्र-


महामृत्युंजय मंत्र-
ॐ त्र्यम्बकं यजामहे सुगन्धिं पुष्टिवर्धनम्।
उर्वारुकमिव बन्धनान मृत्योर्मुक्षीय मामृतात्॥

* ॐ शिवाय नम:

* ॐ सर्वात्मने नम:

* ॐ त्रिनेत्राय नम:
* ॐ हराय नम:

* ॐ इन्द्रमुखाय नम:

* ॐ श्रीकंठाय नम:

* ॐ वामदेवाय नम:

* ॐ तत्पुरुषाय नम:

* ॐ ईशानाय नम:

* ॐ अनंतधर्माय नम:

* ॐ ज्ञानभूताय नम:

* ॐ अनंतवैराग्यसिंघाय नम:

* ॐ प्रधानाय नम:

* ॐ व्योमात्मने नम:
* ॐ युक्तकेशात्मरूपाय नम:

* ॐ नमो भगवते रुद्राय नमः

* ॐ तत्पुरुषाय विद्महे महादेवाय धीमहि 
तन्नो रुद्रः प्रचोदयात्! 

* ।।श्री शिवाय नम:।।
* ।। श्री शंकराय नम:।।
* ।। श्री महेश्वराय नम:।।
* ।। श्री सांबसदाशिवाय नम:।।
* ।। श्री रुद्राय नम:।।
* ।। ओम पार्वतीपतये नम:।।
* ।। ओम नमो नीलकण्ठाय नम:।।

* नम: शम्भवाय च मयोभवाय च नमः शंकराय च मयस्कराय च नमः शिवाय च शिवतराय च।।
ईशानः सर्वविध्यानामीश्वरः सर्वभूतानां ब्रम्हाधिपतिमहिर्बम्हणोधपतिर्बम्हा शिवो मे अस्तु सदाशिवोम।।

आज है शुक्र प्रदोष व्रत, इस कथा को पढ़ने से सफल होगा व्रत

आज है प्रदोष व्रत, यहाँ जानिए शुभ मुहूर्त और पूजा विधि

आज से आरम्भ हुआ ज्येष्ठ माह, जानिए इस महीने में आने वाले व्रत-त्यौहार

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -