रविवार को सूर्य पूजन से होता है शत्रुओं का नाश

Feb 13 2016 09:33 PM
रविवार को सूर्य पूजन से होता है शत्रुओं का नाश

भगवान सूर्य शक्ति के देवता, साक्षात् ईश्वर का प्रकाश स्वरूप। भगवान सूर्य अर्थात जीवन, भगवान सूर्य अर्थात पराक्रम, भगवान सूर्य अर्थात यश,कीर्ति, औज, तेजस्व, समृद्धि के दाता। जी हां, भगवान सूर्य को रविवार के दिन पूजा जाता है। दरअसल रविवार भगवान सूर्य देव का विशेष वार है। ऐसे में भगवान सूर्य देव का पूजन कर रविवार के दिन प्रसन्न किया जाता है। भगवान सूर्य को प्रसन्न करने के लिए कई तरह के उपाय किए जाते हैं। भगवान को अध्र्य देते समय जल के पात्र में एक रक्तवर्ण पुष्प डाल दें और अध्र्य के जल को अपनी नाक, दोनों भुजाओं आदि पर भी लगाऐं। लेकिन कई बार भगवान सूर्य को प्रसन्न करने के लिए और भी उपाय करने पड़ते हैं इन उपायों में सूर्य नमस्कार साधना और मंत्र जप विशेष होता है। इस मंत्र में यह मंत्र बेहद लोकप्रिय है। 

उदसौ सूर्यो अगादुदिदं माककं वचः। 
अथाहं शत्रुहोअसान्यसपत्नः सपत्नहा।।
सपत्नक्षयणो वषाभिराष्ट्रो विष सहिः।
यथाहभेषां वीराणां विराजानि जनस्य च।। 

इस सूर्य मंत्र से शत्रुओं पर विजय प्राप्त होती है। दरअसल जिस तरह से सूर्योदय होता है और सूर्य उपर की ओर उठता है वैसे ही यह मंत्र असरकारक होकर उपर उठता है और शत्रुओं को मारने वाला बनता है। यह प्रतिद्वंदी को नष्ट करने वाला, प्रजाओं की इच्छा को पूर्ण करने वाला, होता है। इससे देश भी उन्नत होता है। एक राजा या अधिशासक व अधिकारी के लिए भी यह मंत्र बेहद उत्तम है।