एक मंदिर ऐसा भी, जहां है कांच का श्रीयंत्र

उज्जैन। भारत अवतारों और पौराणिक आख्यानों से वर्णित देश है। यहां लगभग हर 5 कदम पर कोई नई मान्यता नज़र आती हैं। यहां पर बड़े पैमाने पर लोग धार्मिक आस्थाओं को मानते हैं। लोगों का यहां की परंपराओं में विश्वास है। लोगों की आस्थाओं और परंपरओं के अनुसार यहां पर देवी - देवताओं के कई मंदिर हैं। इन मंदिरों में ईश्वर जहां मूर्ति स्वरूप में प्रतिष्ठापित हैं वहीं वह अपनी जागृत शक्ति का परिचय भी समय समय पर लोगों को देता है।

ऐसी ही कुछ मंदिरों में एक मंदिर  मध्यप्रदेश के उज्जैन में प्रतिष्ठापित है। यह मंदिर यूं तो माता गजलक्ष्मी का है लेकिन दीपावली के दिन यहां बड़ी रौनक रहती है। दीपावली ही नहीं शारदीय नवरात्रि की महाअष्टमी पर यहां श्रद्धालुओं का तांता लगा रहता है। इस अवसर पर यहां पर माता के कुमकुम और सिद्ध किए गए श्रीयंत्र वितरित किए जाते हैं। श्राद्ध पक्ष के अंतर्गत आने वाली अष्टमी पर भी यहां श्रद्धालुओं की कतार लगी रहती है। यहां हाथी अष्टमी पर बड़े पैमाने पर श्रद्धालु पहुंचते हैं। मगर दीपावली के अवसर पर मंदिर में श्रद्धालुओं का सैलाब उमड़ पड़ता है। 

यह मंदिर जहां माता गजलक्ष्मी की आराधना के लिए जाना जाता है वहीं यहां पर भगवान विष्णु के दसों अवतार का वर्णन करने वाली दुर्लभ मूर्ति प्रतिष्ठापित है। मंदिर की छत पर आकर्षक श्रीयंत्र निर्मित है। विशेष बात यह है कि यह श्रीयंत्र धार्मिक व वैज्ञानिक मान्यता पर आधारित है और अपने सभी कोणों पर आधारित है। यह श्रीयंत्र कांच से बना है। बड़े पैमाने पर श्रद्धालु यहां आकर इस श्रीयंत्र के दर्शन कर पुण्य कमाते हैं।

दिवाली पर इन चीजों का दिखाई देना माता लक्ष्मी कि कृपा का संकेत है

दिवाली पर इन चीजों का दिखाई देना माता लक्ष्मी कि कृपा का संकेत है

 

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -