जानिए पितृ पक्ष के 16 दिन का फल

इस समय श्राद्ध पक्ष चल रहे हैं. ऐसे में आप सभी जानते ही होंगे कि श्राद्ध पक्ष 16 दिन तक होते हैं और इस दौरान श्रद्धापूर्वक जो भी कुछ देने का हम संकल्प लेते हैं वह सब कुछ उन पूर्वजों को अवश्य प्राप्त होता है. ऐसे में आज हम आपको बताने जा रहे हैं पितृ पक्ष के 16 दिन का फल. आइए जानते हैं.

जानिए पितृ पक्ष के 16 दिन का फल

1. कहते हैं जो पूर्णमासी के दिन श्राद्धादि करता है उसकी बुद्धि, पुष्टि, स्मरणशक्ति, धारणाशक्ति, पुत्र-पौत्रादि एवं ऐश्वर्य की बढ़त होती है.
2. कहा जाता है प्रतिपदा का श्राद्ध धन-संपत्ति के लिए किया जाता है.
3. कहते हैं द्वितीया को श्राद्ध करने वाला व्यक्ति राजा बना रहता है.

4. कहा जाता है उत्तम अर्थ की प्राप्ति के अभिलाषी को तृतीया के दिन श्राद्ध करना चाहिए.

5. कहा जाता है चतुर्थी के दिन श्राद्ध करने से शत्रुओं का नाश होता है.

6. पंचमी तिथि को श्राद्ध करने वाला उत्तम लक्ष्मी हासिल कर लेता है.
7. कहा जाता है जो षष्ठी तिथि को श्राद्धकर्म करते हैं उसी पूजा देवता भी करते हैं.

8. कहते हैं जो सप्तमी को श्राद्धादि करता है उसको महान यज्ञों के पुण्यफल मिलते हैं.

9. कहा जाता है जो अष्टमी को श्राद्ध करता है वह संपूर्ण समृद्धियां ले लेता है.

10. नवमी तिथि को श्राद्ध करने से ऐश्वर्य मिलता है.
11. दशमी तिथि को श्राद्ध करने से मनुष्य को ब्रह्मत्व की लक्ष्मी मिलती है.

11. एकादशी को श्राद्ध करने से संपूर्ण पाप कर्मों का विनाश होता है.

12. द्वादशी को श्राद्ध करने से राष्ट्र का कल्याण होता है..

14. त्रयोदशी को श्राद्ध करने से संतति, बुद्धि, धारणाशक्ति, स्वतंत्रता, उत्तम पुष्टि, दीर्घायु तथा ऐश्वर्य मिलता है.
15. चौदस के दिन को श्राद्ध करने से पितृ दोष दूर होता हैं.

16. पितृविसर्जनी अमावस्या के दिन पितरों का एक साथ आह्वान कर उन्हें जल और भोग तर्पण कर दें. इससे घर में खुशहाली आती है.

मेघालय: सरकारी दफ्तर में कोरोना ने दी दस्तक, छह सरकारी अधिकारी निकले पॉजिटिव

बीजद सांसद रमेश चंद्र माझी कोरोना संक्रमण से हुए संक्रमित

उत्तराखंड में कोरोना संक्रमण की चपेट में आए 831 लोग, 12 की मौत

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -