भाजपा ने की थी ममता मुक्त बंगाल की बात, जनता ने ममता को ही खिलाया जीत का रसगुल्ला

मुंबई : महाराष्ट्र में भारतीय जनता पार्टी के साथ सत्ता में भागीदारी कर रही शिवसेना द्वारा केंद्र सरकार का विरोध किया गया है। जहां विधानसभा चुनाव के बाद भाजपा संगठन ने अपनी पीठ थपथपाई तो शिवसेना ने इसका विरोध किया और भाजपा और एनडीए के प्रदर्शन पर निशाना साधा। शिवसेना ने सामना के माध्यम से भाजपा पर प्रहार किया है। अपने मुखपत्र सामना में भाजपा को लेकर शिवसेना ने लिखा है कि क्षेत्रीय दलों का प्रभाव बढ़ता जा रहा है। को इस सत्य को स्वीकारना होगा. केरल में उनका खाता खुला, यही उनके लिए अच्छे दिन हैं.

शिवसेना द्वारा कहा गया कि भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह द्वारा ममता मुक्त पश्चिम बंगाल का नारा दिया गया था। उनका कहना था कि ममता के राज में भ्रष्टाचार, आतंकवाद, गुंडागर्दी बढ़ गई है, मगर पश्चिम बंगाल में जीत का रसगुल्ला तो ममता दीदी को ही जनता ने खिलाया। भाजपा सरकार को अपनी प्रतिष्ठा की आवश्यकता नहीं थी।

उन्होंने सामना में लिखा था कि असम की जीत भाजपा के लिए संजीवनी लेकर आई, आखिर बिहार की हार की चुभन में असम की जीत से राहत मिली। उन्होंने कहा कि स्थानीय दलों का प्रभाव राष्ट्रीय दलों के लोकप्रिय नेता कभी भी कम नहीं कर सकते हैं।

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -