10 लाख लोगों को वैक्सीन लगाने का लक्ष्य निर्धारित करें: CM शिवराज सिंह चौहान

भोपाल: मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने बीते गुरूवार को एक अहम बैठक की. इस दौरान उन्होंने कहा, 'केंद्र सरकार से मध्यप्रदेश को आवश्यकता के अनुसार कोविड से बचाव की वैक्सीन प्रदाय की जा रही है।' जी दरअसल बीते कल ही केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मंडाविया से हुई चर्चा का उल्लेख करते हुए मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा, 'केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्री ने आश्वस्त किया है कि मध्यप्रदेश को अब तक जिस तरह जरूरत के अनुसार वैक्सीन डोज मिलते रहे हैं, आगे भी पर्याप्त डोज़ मिलेंगे। इस आपूर्ति से आगामी 17 सितंबर को संचालित किए जा रहे वैक्सीनेशन महाअभियान को सफल बनाने में सहयोग मिलेगा।'

आप सभी जानते ही होंगे कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के जन्म-दिवस पर महाअभियान संचालित किया जा रहा है। ऐसे में बीते गुरुवार को मंत्रालय में हुई बैठक में CM शिवराज ने इस महाअभियान को सफल बनाने के लिए निर्देश दिए। बैठक के दौरान CM शिवराज के साथ चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास सारंग, लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री डॉ. प्रभुराम चौधरी, कृषि मंत्री कमल पटेल, मुख्य सचिव इकबाल सिंह बैंस, अपर मुख्य सचिव स्वास्थ्य मोहम्मद सुलेमान और स्वास्थ्य आयुक्त आकाश त्रिपाठी शामिल रहे। इस दौरान मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा, 'प्रतिदिन राज्य में कम से कम 10 लाख लोगों को वैक्सीन लगाने का लक्ष्य निर्धारित करें। आगामी 17 सितंबर के पश्चात इसी माह आखिरी सप्ताह में भी प्रथम डोज शत-प्रतिशत पात्र लोगों को लगाने की लक्ष्य प्राप्ति के पूरे प्रयास हों। संभव हो तो मतदाता सूची को आधार बनाकर जन-सहयोग प्राप्त कर लोगों को वैक्सीन लगवाने के लिए केंद्रों तक लाने का कार्य किया जाए, जिससे अभियान से शत-प्रतिशत वैक्सीन का लक्ष्य पूरा हो सकें।'

इसी के साथ मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने यह भी कहा, 'वैक्सीनेशन में जिन जिलों की उपलब्धि 70 प्रतिशत से कम है, वहां के कलेक्टर्स और जिला क्राइसिस मैनेजमेंट ग्रुप के सदस्यों से चर्चा कर समीक्षा की जाएगी।' बैठक में यह भी बताया गया कि प्रदेश में अब तक 5.49 करोड़ वैक्सीनेशन के पात्र व्यक्तियों में से 4.07 करोड़ को प्रथम डोज और 93 लाख व्यक्तियों को दूसरा डोज लगाया जा चुका है। जिन जिलों में प्रगति 80 प्रतिशत से अधिक है, उनमें इंदौर, आगर-मालवा, भोपाल, सीहोर, हरदा, शहडोल, रतलाम, उज्जैन, नीमच, शाजापुर, गुना और दतिया शामिल हैं।

बिहार पंचायत चुनाव में नामांकन करने से पहले प्रत्याशियों को करना होगा ये काम

जानिए क्यों BJP प्रदेश प्रभारी मुरलीधर राव ने बताया नेताओं को नालायक?

10 साल में 25 बार 'गैर मर्दों' के साथ भाग चुकी है ये महिला, हर बार लौटने पर 'कबूल' कर लेता है पति

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -