नोट बंद करने से बंद हुआ कारोबार

नोट बंद करने से बंद हुआ कारोबार

लखनऊ : समाजवादी पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष शिवपाल सिंह यादव ने देशभर में केंद्र सरकार के आदेश पर बंद हुए नोटों को लेकर अपना विरोध जताया। उन्होंने कहा कि दरअसल 500 रूपए और 1000 रूपए के नोट बंद कर दिए गए हैं इससे देश की अर्थव्यवस्था प्रभावित हुई है। इतना ही नहीं राज्य सरकार में पूर्व मंत्री शिवपाल यादव का कहना था कि लोगों को लंबी कतारों का सामना कर बैंकों से रूपए निकालना पड़ रहे हैं।

शिवपाल का कहना था कि वैवाहिक समय में रूपयों का प्रबंध करना पड़ रहा है। हालात ये हैं कि लोगों के यहां होने वाले वैवाहिक आयोजनों में लोगों की देनदारी बढ़ गई है। रोजगार प्रभावित हैं। उनका कहना था कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को यह पता नहीं है कि इस तरह के प्रयासों से देशभर में बड़ा नुकसान हुआ है।

शिवपाल का कहना था कि पुराने नोट बेकार होंगे वे तो एक परेशानी है ही मगर जो नए नोट छापने होंगे उससे लगभग 20 हजार करोड़ रूपए का खर्च वहन करना होगा। सबसे बड़ा सवाल यह है कि उसकी भरपाई किस तरह से होगी। इस मामले में समाजवादी पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष ने जमकर विरोध किया। उनका कहना था कि देश में पूंजीपति गरीब और भोली जनता को फिर परेशान करेंगे और इसका पूरा लाभ उठाऐंगे।