अक्टूबर में निचले स्थान पर आ सकता है,शेयर बाजार

नई दिल्ली: भारतीय अर्थव्यव्स्था को मजबूती प्रदान करने वाला शेयर बाजार हाल में अपने नीचे पायदान पर आ गया है और कहा जा रहा है कि आगामी माह में बाजार के और नीचे जाने की संभावना जताई जा रही है। देखा जाए तो सितंबर माह में शेयर बाजार में भारी गिरावट दर्ज की गई है। वहीं रूपए के निचले स्तर पर आने से बाजार काफी कमजोर हुआ है। 

दलाल स्ट्रीट में खलबली, सेंसेक्स में 500 अंकों की गिरावट


देश में कुछ समय में बढ़े कच्चे तेल के दामों से भी बाजार कमजोर हुआ है। वहीं सितंबर माह में शेयर बाजार में 6 प्रतिशत की गिरावट दर्ज की गई है। इसके अलावा पिछले माह में सेंसेक्स में 2417.93 प्वाइंट की गिरावट रही वहीं निफ्टी में 750.05 प्वाइंट की गिरावट दर्ज की गई है। 

पाकिस्तान क़र्ज़ में बुरी तरह डूबा : हक़ीक़त कुछ और, फ़साने कुछ और


 
भारत के बाजार में जहां कच्चे तेल की बढ़ी हुई कीमतों का असर पड़ता है। तो वहीें इससे शेयर बाजार में इससे काफी नुकसान भी होता है। भारत में कच्चे तेल की कीमतें बढ़ने से भारत की अर्थव्यवस्था पर भारी असर पड़ा है और अब कच्चा तेल 71 रुपये प्रति बैरल से बढ़कर 82 रुपये पर पहुंच गया है। वहीं बाजार में आई इस तरह की गिरावट के मुख्य कारण रूपए में कमजोरी, कच्चे तेल के बढ़ते दाम व एनबीएफसी में तरलता की कमी है। जिससे   भारत में बाजार अपने नीचे स्थान पर आ गया है।    
 
 खबरें और भी

गिरते बाज़ार में आपको नुक्सान से बचा सकती है ये 3 टिप्स

शेयर बाजार में भारी गिरावट, 600 अंकों से गिरा सेंसेक्स

रूपए में गिरावट का बड़ा असर : सेंसेक्स 350 अंक गिरा, निफ्टी 11400 के करीब पहुंचा

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -