10 अगस्त को है शीतला सप्तमी, जरूर पढ़े-सुने यह व्रत कथा

Aug 08 2020 07:00 PM
10 अगस्त को है शीतला सप्तमी, जरूर पढ़े-सुने यह व्रत कथा

भाद्रपद महीने में कृष्ण पक्ष षष्ठी रविवार 9 अगस्त को हलषष्ठी (हल छठ) पूजा की जाएगी. वहीं इसके बाद अगले दिन शीतला सप्तमी है. अब आज हम आपको बताने जा रहे हैं शीतला सप्तमी की कथा.

शीतला सप्तमी की कथा- एक बार शीतला सप्तमी के दिन एक बुढ़िया व उसकी दो बहुओं ने व्रत रखा. उस दिन सभी को बासी भोजन ग्रहण करना था. इसलिये पहले दिन ही भोजन पका लिया गया था. लेकिन दोनों बहुओं को कुछ समय पहले ही संतान की प्राप्ति हुई थी कहीं बासी भोजन खाने से वे व उनकी संतान बिमार न हो जायें इसलिये बासी भोजन ग्रहण न कर अपनी सास के साथ माता की पूजा अर्चना के पश्चात पशओं के लिये बनाये गये भोजन के साथ अपने लिये भी रोट सेंक कर उनका चूरमा बनाकर खा लिया. जब सास ने बासी भोजन ग्रहण करने की कही तो काम का बहाना बनाकर टाल गई.

उनके इस कृत्य से माता कुपित हो गई और उन दोनों के नवजात शिशु मृत मिले. जब सास को पूरी कहानी पता चली तो उसने दोनों को घर से निकाल दिया. दोनों अपने शिशु के शवों को लिये जा रही थी कि एक बरगद के पास रूक विश्राम के लिये ठहर गई. वहीं पर ओरी व शीतला नामक दो बहनें भी थी जो अपने सर में पड़ी जूंओं से बहुत परेशान थी. दोनों बहुओं को उन पर दया आयी और उनकी मदद की सर से जूंए कम हुई तो उन्हें कुछ चैन मिला और बहुओं को आशीष दिया कि तुम्हारी गोद हरी हो जाये उन्होंने कहा कि हरी भरी गोद ही लुट गई है इस पर शीतला ने लताड़ लगाते हुए कहा कि पाप कर्म का दंड तो भुगतना ही पड़ेगा. बहुओं ने पहचान लिया कि साक्षात माता हैं तो चरणों में पड़ गई और क्षमा याचना की, माता को भी उनके पश्चाताप करने पर दया आयी और उनके मृत बालक जीवित हो गये. तब दोनों खुशी-खुशी गांव लौट आयी. इस चमत्कार को देखकर सब हैरान रह गये. इसके बाद पूरा गांव माता को मानने लगा.

आपने कभी नहीं सुनी होगी भगवान विष्णु के भक्त की यह अनोखी कथा

जब प्रभु श्रीराम को एक अप्सरा ने दे दिया था ऐसा श्राप

जीवन की नैया पार लगाने के लिए हर दिन करें प्रभु श्रीराम चालीसा का पाठ