इसलिए नवरात्रि में बोया जाता है जौ, बताते हैं भविष्य

आने वाले 7 अक्टूबर यानि गुरूवार को शारदीय नवरात्रि का पर्व शुरू होने जा रहा है। जी दरअसल नवरात्रि के नौ दिनों में मां दुर्गा का पूजन किया जाता है। हर साल मां दुर्गा को खुश करने के लिए नवरात्रि का पर्व मनाया जाता है। इस दौरान जो लोग व्रत नहीं कर पाते हैं वह केवल देवी की पूजा कर दुर्गा सप्तशती का पाठ कर सकते हैं। जैसाकि हम जानते हैं कि नवरात्रि के पहले दिन कई लोग जौ की बुवाई करते हैं। वहीं इसका महत्व सबसे अधिक माना जाता है। शास्त्रों की माने तो सृष्टि की शुरुआत के बाद जौ पहली फसल थी, और इसी के चलते जब देवी-देवताओं की पूजा की जाती है, तो हवन में "जौ" चढ़ाया जाता है। ऐसा माना जाता है कि नवरात्रि में उगाई जाने वाली जौ भविष्य से जुड़ी कुछ बातों का संकेत देती है। इसी के चलते " जौ को ब्रह्म " माना जाता है।

अब हम आपको बताते हैं जौ के उगने के भविष्य के संकेत-


* कहा जाता है जौ का तेजी से बढ़ना घर में सुख समृद्धि का संकेत माना जाता है।
* कहते हैं अगर जौ घनी नहीं उगती है या ठीक से नहीं उगती है तो इसे घर के लिए अशुभ माना जाता है।
* ऐसा माना जाता है अगर जौ काले रंग के टेढ़े-मेढ़े उगती है तो घोर अशुभ माना जाता है।
* मान्यता है कि जब जौ का रंग नीचे से आधा पीला और ऊपर से आधा हरा हो तो इसका मतलब आने वाले साल का आधा समय ठीक रहेगा।
* कहा जाता है अगर जौ का रंग नीचे से आधा हरा और ऊपर से आधा पीला हो, इसका मतलब है कि साल की शुरुआत अच्छी होगी, * लेकिन बाद में आपको परेशानियों का सामना करना पड़ेगा।
* ऐसा भी कहा जाता है अगर बोई हुई जौ सफेद या हरे रंग की हो रही है तो यह बहुत शुभ माना जाता है।

छत्तीसगढ़ में मुख्यमंत्री बदलने की तैयारी?

'लालू यादव को दिल्ली में बंधक बनाकर रखा गया': तेज प्रताप

मुंबई ड्रग्स पार्टी: NCB ने भेजा क्रूज के मालिक को समन

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -