यहाँ जानिए शरद पूर्णिमा का शुभ मुहूर्त, पूजा विधि और कथा

हिंदू धर्म में हर पूर्णिमा का महत्व होता है, लेकिन शरद पूर्णिमा सबसे महत्वपूर्ण मानी जाती है। आप सभी जानते ही होंगे कि हिंदू पंचांग के अनुसार, आश्विन मास की पूर्णिमा को शरद पूर्णिमा के नाम से जाना जाता है। वहीं इस साल शरद पूर्णिमा आज यानी 19 अक्टूबर (मंगलवार) को है। वहीं पंचांग भेद होने के कारण कुछ जगहों पर यह पर्व 20 अक्टूबर को भी मनाया जाएगा। आप सभी को बता दें कि इस व्रत को आश्विन पूर्णिमा, कोजगारी पूर्णिमा और कौमुदी व्रत के नाम से भी जानते हैं। ऐसी मान्यता है कि शरद पूर्णिमा के दिन चंद्रमा 16 कलाओं से परिपूर्ण होता है और इसे अमृत काल भी कहते हैं। अब हम आपको बताते हैं शरद पूर्णिमा का शुभ मुहूर्त, कथा और पूजा विधि।

पौराणिक कथा- एक साहूकार की दो बेटियां थीं। दोनों पूर्णिमा का व्रत रखती थीं। एक बार बड़ी बेटी ने पूर्णिमा का विधिवत व्रत किया, लेकिन छोटी बेटी ने व्रत छोड़ दिया। जिससे छोटी लड़की के बच्चों की जन्म लेते ही मृत्यु हो जाती थी। एक बार साहूकार की बड़ी बेटी के पुण्य स्पर्श से छोटी लड़की का बालक जीवित हो गया। कहते हैं कि उसी दिन से यह व्रत विधिपूर्वक मनाया जाने लगा।

शुभ मुहूर्त- पूर्णिमा तिथि का प्रारंभ 19 अक्टूबर को शाम 07 बजे से होगा, जो कि रात 08 बजकर 20 मिनट पर समाप्त होगी। इस दिन पूजन का शुभ मुहूर्त शाम 05 बजकर 27 मिनट से चंद्रोदय के बाद रहेगा।


पूजन विधि- इस दिन ब्रह्म मुहूर्त में उठकर किसी पवित्र नदी में या पानी में गंगाजल डालकर स्नान करें। इसके बाद स्वच्छ वस्त्र धारण करें। अब एक लकड़ी की चौकी या पाटे पर लाल कपड़ा बिछाएं और गंगाजल से शुद्ध करें। इसके बाद चौकी के ऊपर मां लक्ष्मी की प्रतिमा स्थापित करें और लाल चुनरी पहनाएं। अब लाल फूल, इत्र, नैवेद्य, धूप-दीप, सुपारी आदि से मां लक्ष्मी का विधिवत पूजन करें। इसके बाद मां लक्ष्मी के समक्ष लक्ष्मी चालीसा का पाठ करें। ध्यान रहे पूजन संपन्न होने के बाद आरती करें। वहीं शाम के समय पुनः मां और भगवान विष्णु का पूजन करें और चंद्रमा को अर्घ्य दें। इसके बाद चावल और गाय के दूध की खीर बनाकर चंद्रमा की रोशनी में रखें। ध्यान रहे मध्य रात्रि में मां लक्ष्मी को खीर का भोग लगाएं और प्रसाद के रुप में परिवार के सभी सदस्यों को खिलाएं।

शरद पूर्णिमा की रात जरूर करें यह उपाय, चमक उठेगी किस्मत

शरद पूर्णिमा की हार्दिक शुभकामनाएं

19 अक्टूबर को है शरद पूर्णिमा, सुख-समृद्धि के लिए करें यह खास उपाय

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -