5 जून से शनि चलेंगे उल्टी चाल, इन राशि वालों के लिए बहुत भरी है समय

शनि वक्री अवस्था में जातक को कष्ट पहुंचाते हैं। जी हाँ, शनि की उल्टी चाल में शनि दशा से पीड़ित जातकों को कष्टों का सामना करना पड़ता है। आप सभी को बता दें कि शनि की चाल नवग्रहों में सबसे धीमी होती है। जी हाँ और यही वजह है कि शनि राशि परिवर्तन ढाई साल में होता है। इस समय शनि कुंभ राशि में गोचर कर रहे हैं। आपको बता दें कि शनि का 29 अप्रैल को राशि परिवर्तन हुआ था। वहीं अब आने वाले 5 जून 2022 को शनि वक्री अवस्था में होने जा रहे हैं। अब  शनि 141 दिन उल्टी चाल चलेंगे और 23 अक्टूबर को मार्गी होंगे। जी हाँ तो आइए जानते हैं शनि वक्री होने से कौन सी राशियां प्रभावित होंगी।

मेष- शनि के वक्री होने से आपके भाग्य पर असर पड़ सकता है। इस समय राहु आपकी राशि में विराजमान हैं। हालाँकि शनि वक्री होने से अशुभता में वृद्धि होगी। अब धन हानि के योग भी बनेंगे और आर्थिक मामलों में आपको समझदारी से फैसले लेने होंगे। इसके अलावा वैवाहिक जीवन में कुछ परेशानियां आ सकती हैं।

कर्क- कर्क राशि वालों पर शनि ढैय्या चल रही है। कर्क राशि वालों को इस दौरान थोड़ा सतर्क रहने की जरूरत है। जी हाँ और इस दौरान आपके बनते काम बिगड़ सकते हैं। आर्थिक स्थिति में बदलाव हो सकता है। इसके अलावा वाहन प्रयोग में विशेष सावधानी बरतने की जरूरत है।

मकर- मकर राशि पर शनि की साढ़ेसाती चल रही है। हालाँकि अब  वाणी और धन पर विशेष ध्यान देने की जरूरत है। जी दरअसल शनि वक्री का आपके करियर पर बुरा प्रभाव पड़ सकता है। आपकी मेहनत में कमी आ सकती है। उच्चाधिकारियों के साथ संबंध बिगड़ सकते हैं। आपको अपने गुस्से पर काबू रखना होगा।

कुंभ- शनि आपकी राशि में ही गोचर कर रहे हैं। 29 अप्रैल 2022 को शनि आपकी राशि में ही आ चुके हैं। ऐसे में अब कुंभ राशि में ही शनि वक्री होंगे। आप इस दौरान किसी वाद-विवाद में न पड़ें। इसके अलावा निवेश सोच-समझकर करें। विवाह आदि में बाधा आ सकती है।

इन 2 राशि वालों के लिए जी का जंजाल होता है काला धागा, गलती से भी नहीं चाहिए बांधना

हर बीमारी के लिए अलग-अलग हैं सूर्य देव के मंत्र, यहाँ जानिए सभी के बारे में

भानु सप्तमी के दिन करें यह उपाय, हर मनोकामना होगी पूरी

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -