एक छोटा सा उपाय कर शनिदेव को करें खुश, चमक उठेगी किस्मत

धार्मिक मान्यताओं के अनुसार शनिवार का दिन शनिदेन को समर्पित होता है। जी हाँ और इस दिन विधि-विधान से शनिदेव की पूजा-अर्चना करते है। आप सभी को बता दें कि शनिदेव के अशुभ प्रभावों से दुनिया का हर व्यक्ति भयभीत रहता है और शनि के अशुभ होने पर व्यक्ति को कई तरह की समस्याओं का सामना करना पड़ता है। जी दरअसल शनि के अशुभ होने पर व्यक्ति को कई तरह की समस्याओं का सामना करना पड़ता है और शनि के शुभ होने पर व्यक्ति का सोया हुआ भाग्य भी जाग जाता है। आपको बता दें कि शनिदेव को प्रसन्न करने के लिए शनिवार के दिन राजा दशरथ कृत शनि स्तोत्र का पाठ करना चाहिए। कहा जाता है दशरथ कृत शनि स्तोत्र का पाठ करने से शनिदेव की विशेष कृपा प्राप्त होती है। 

राजा दशरथ कृत शनि स्तोत्र

नम: कृष्णाय नीलाय शितिकण्ठनिभाय च।
नम: कालाग्निरूपाय कृतान्ताय च वै नम: ।।
 
नमो निर्मांस देहाय दीर्घश्मश्रुजटाय च।
नमो विशालनेत्राय शुष्कोदर भयाकृते।।
 
नम: पुष्कलगात्राय स्थूलरोम्णेऽथ  वै नम:।
नमो दीर्घायशुष्काय कालदष्ट्र नमोऽस्तुते।।
 
नमस्ते कोटराक्षाय दुर्निरीक्ष्याय वै नम:।
नमो घोराय रौद्राय भीषणाय कपालिने।।
 
नमस्ते सर्वभक्षाय वलीमुखायनमोऽस्तुते।
सूर्यपुत्र नमस्तेऽस्तु भास्करे भयदाय च।।
 
अधोदृष्टे: नमस्तेऽस्तु संवर्तक नमोऽस्तुते।
नमो मन्दगते तुभ्यं निरिस्त्रणाय नमोऽस्तुते।।
 
तपसा दग्धदेहाय नित्यं  योगरताय च।
नमो नित्यं क्षुधार्ताय अतृप्ताय च वै नम:।।
 
ज्ञानचक्षुर्नमस्तेऽस्तु कश्यपात्मज सूनवे।
तुष्टो ददासि वै राज्यं रुष्टो हरसि तत्क्षणात्।।
 
देवासुरमनुष्याश्च  सिद्घविद्याधरोरगा:।
त्वया विलोकिता: सर्वे नाशंयान्ति समूलत:।।
 
प्रसाद कुरु  मे  देव  वाराहोऽहमुपागत।
एवं स्तुतस्तद  सौरिग्र्रहराजो महाबल:।।

आज शनिदेव के मंदिर में करें यह काम पूरी हो जाएगी हर मनोकामना

शनिदेव हो मेहरबान तो मिलने लगते हैं ये संकेत, समझ जाए तो करें ये काम

2025 तक इस राशि पर भारी पड़ेंगे शनि, मंगल-शनिवार को भूल से भी न करें ये काम

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -