4 मई को है शनि अमावस्या, करें यह उपाय

इस हफ्ते का आने वाला शनिवार बहुत ख़ास है. जी हाँ, ऐसे में हिंदू धर्म में अमावस्या का विशेष महत्व माना जाता है और अमावस्या के दिन पूरे मन से व विधि विधान के साथ पूजा अर्चना करने से व्यक्ति को उसका शुभ फल अवश्य ही मिल जाता है. ऐसे में मकर और कुंभ राशि के स्वामी शनिदेव की उलटी चाल से न केवल व्यक्ति विशेष बल्कि प्रकृति पर भी इसका प्रभाव दिख जाता है.

जी हाँ, इसी के साथ जिन राशियों के लिए शनि की उलटी चाल नुकसान पहुंचाने वाली हैं और जिन्हें शनिदेव की कृपा मिलने वाली हैं वे सभी 4 मई यानी आने वाले शनिवार के दिन पड़ने वाली शनि अमावस्या के दिन कुछ विशेष महाउपायों को कर शनिदोष से मुक्ति प्राप्त कर सकते हैं. इसी के साथ वह अपने जीवन में सुख समृद्धि के साथ सौभाग्य का आशीर्वाद भी प्राप्त कर सकते हैं और शनिदेव के प्रकोप को शांत करने के लिए उनसे जुड़े कई सारे मंत्रों का जाप भी किया जा सकता हैं यह व्यक्ति के लिए बहुत ही लाभकारी भी साबित हो सकता हैं. जी हाँ, कहा जाता है शनि महाराज को समर्पित इस मंत्र को श्रद्धा भाव के साथ जपने से निश्चित रूप से व्यक्ति को ​इसका पूर्ण लाभ अवश्य ही प्राप्त होता हैं और जीवन में सुख शान्ति भी बनी रहती हैं.

मंत्र - (सूर्य पुत्रो दीर्घ देहो विशालाक्ष: शिव प्रिय:। मंदाचाराह प्रसन्नात्मा पीड़ां दहतु में शनि:।। ॐ शं शनैश्चराय नमः ॐ प्रां प्रीं प्रौ सं शनैश्चराय नमः ॐ नमो भगवते शनैश्चराय सूर्यपुत्राय नमः) कहते हैं शनि से जुड़े दोष दूर करने या फिर उनकी कृपा पाने के लिए भगवान शिव की उपासना एक सिद्ध उपाय माना जाता हैं और हर दिन नियमपूर्वक शिव सहस्त्रनाम या फिर भगवान शिव के पंचाक्षरी मंत्र का पाठ करने से शनि के प्रकोप दूर हो जाते हैं.

यहाँ जानिए आज का पंचाँग, राहुकाल और शुभ मुहूर्त

महाभारत की इस कथा को सुनकर हैरान रह जाएंगे आप

जिन मर्दो की छाती पर हैं ज्यादा बाल वह जरूर पढ़े यह खबर

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -