बाॅलीवुड के पहले राॅकस्टार शम्मी कपूर

बाॅलीवुड के पहले राॅकस्टार, बिंदास बाॅय शम्मी कपूर का आज जन्मदिन है। शम्मी कपूर का नाम आते है उनके फैंस उमंग और उत्साह के भाव से भर जाते हैं। आखिर उन्होंने रोमांस को बेहद राॅकस्टार तरीके से परदें पेश किया। जीवन की मस्ती, एक अल्हड़ मजा और रोमांस का जबरदस्त तड़का शम्मी कपूर की फिल्मों में दिखाई देता हैं। उनकी फिल्मों के गीत भी शानदार, जबरदस्त और जिंदाबाद रहे हैं।

21 अक्टूबर 1931 को मुंबई में जन्में शम्मी रिबेल स्टार यानि विद्रोही कलाकार थे। देवदासनुमा अभिनय का उन्होंने खंडन किया। उदासी, मायुसी और खामोशी से उन्हें बगावत थी। वह सिनेप्रेमियों के बीच अपनी दूजा किस्म की अभिनय शैली के लिए जाने जाते हैं। कभी बागी, कभी रोमांस तो कभी अल्लड़ मस्ती शम्मी के जीवन का फलसफा रहा हैं। 

पृथ्वीराज कपूर के घर पैदा हुए शम्मी का रूझान बचपन से अभिनय के प्रति था। 1953 में रिलीज हुए फिल्म जीवन ज्योति से उन्होंने अपने फिल्म कैरियर की शुरूआत की। इसके कुछ सालों तक उन्होंने बाॅलीवुड में छाप छोड़ने के लिए बहुत संघर्ष किया। इसके बाद उन्होंने ठोकर, लडकी, खोज, महबूबा, एहसान, चोर बाजार, तांगेवाली, नकाब, मिस कोकोकोला, सिपहसालार, हम सब चोर है और मेम साहिब जैसी कई फिल्मों में अभिनय किया। लेकिन इनमें से कोई भी फिल्म बॉक्स आॅफिस पर सफल धमाल नहीं कर पाई। 

शम्मी जब फिल्म इंडस्ट्री में आये तो उनकी बाॅडी लैग्वेंज की काफी आलोचना हुई। उनकी आड़ी तिरछी अदायें की आलोचना होने लगी। लेकिन बाद में यही अंदाज लोगों के बीच आकर्षण का केन्द्र बन गया। उनके लिये संगीतकारों ने फड़कता हुआ संगीत, युवा मन को बैचेन करने वाले बोल और गीतकारों को संगीतकारों के तैयार की गयी धुन का बारीकी से अध्ययन करके गीत लिखने पड़े। इसे देखते हुए महान पार्श्वगायक मोहम्मद रफी ने अपनी मधुर आवाज से जो शैली तैयार की वह उनके लिये एकदम फिट रही। 

शम्मी को निर्देशक नासिर हुसैन की वर्ष 1957 में प्रदर्शित फिल्म तुमसा नहीं देखा ने चमका दिया। बेहतरीन गीत, संगीत और अभिनय से सजी इस फिल्म की कामयाबी ने शम्मी कपूर को स्टार, के रूप में स्थापित कर दिया। आज भी इस फिल्म के सदाबहार गीत दर्शकों और श्रोताओं को मंत्रमुग्ध कर देते हैं। वर्ष 1955 में शम्मी कपूर ने फिल्म अभिनेत्री गीताबाली से शादी कर ली। बताया जाता है कि केदार शर्मा की फिल्म रंगीन रातें के निर्माण के दौरान फिल्म अभिनेत्री माला सिन्हा और गीता बाली में शम्मी कपूर को लेकर झगड़ा हो गया था। बाद में केदार शर्मा के समझाने  पर दुबारा से फिल्म की शूटिंग शुरू हुयी। फिल्म की शूटिंग होने के बाद शम्मी कपूर और गीताबाली जब मुंबई लौटकर आये तो दोनों ने निश्चय किया कि लोग उनके बारे में उल्टी-सीधी बात कर रहे है। ऐसे में दोनों ने शादी कर ली।

अपने दमदार अभिनय से दर्शकों के दिलों पर खास पहचान बनाने वाले शम्मी कपूर 14 अगस्त 2011 को इस दुनिया को अलविदा कह गये।  शम्मी कपूर ने अपने पांच दशक के सिने कैरियर में लगभग 200 फिल्मों में काम किया।  

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -