शाम से आँख में नमी सी है -गुलज़ार

शाम से आँख में नमी सी है -गुलज़ार

शाम से आँख में नमी सी है...

शाम से आँख में नमी सी है 
आज फिर आप की कमी सी है 

 

दफ़्न कर दो हमें कि साँस मिले 
नब्ज़ कुछ देर से थमी सी है 

 

वक़्त रहता नहीं कहीं थमकर 
इस की आदत भी आदमी सी है 

 

कोई रिश्ता नहीं रहा फिर भी 
एक तस्लीम लाज़मी सी है.

- गुलज़ार

क्रिकेट से जुडी ताजा खबर हासिल करने के लिए न्यूज़ ट्रैक को Facebook और Twitter पर फॉलो करे! क्रिकेट से जुडी ताजा खबरों के लिए डाउनलोड करें Hindi News App