पत्नी की याद में बनवाया था मिनी ताज महल, उसी में दफ़न हुए बुलंदशहर के 'शाहजहां'

Nov 10 2018 05:20 PM
पत्नी की याद में बनवाया था मिनी ताज महल, उसी में दफ़न हुए बुलंदशहर के 'शाहजहां'

मेरठ: शाहजहां और मुमताज की प्रेम कहानी को दोहराने वाले बुलन्दशहर के 'शाहजहां' फैजुल हसन कादरी का इंतेक़ाल हो गया है. फैजुल हसन कादरी को मरहूम पत्नी की याद में बनवाए गए मिनी ताजमहल में बेगम की कब्र के बराबर में ही खुद की बनायी गयी कब्र में हजारों नम आखों के बीच दफनाया गया. 

नेशनल एजुकेशन डे : जानिए उस सख्स को जिसके सम्मान में मनाया जाता है राष्ट्रीय शिक्षा दिवस

रिटायर्ड पोस्ट मास्टर फैजुल हसन कादरी और उनकी पत्नी तजम्मिल्ल बेगम की प्रेम कहानी देशभर में उस समय मशहूर हुई थी, जब 80 साल की उम्र में फैजुल हसन कादरी ने अपनी पेंशन और जमा किए गए धन से पत्नी की याद में शाहजहां द्वारा बनवाए गए ताज महल की तर्ज पर बुलन्दशहर के डिबाई में मिनी ताजमहल का निर्माण करवाया था. 

नेशनल एजुकेशन डे : मौलाना अब्दुल कलाम की जयंती के अवसर पर मनाया जाता है यह पर्व

हालांकि, उनकी कोई संतान नहीं थी, इसी कारण उन्होंने अपनी 4 बीघा जमीन सरकार के नाम कर दी थी, जिस पर सरकार द्वारा एक राजकीय कन्या इण्टर कॉलेज का निर्माण करवाया गया था, लेकिन अब कादरी के परिजन स्कूल का नाम कादरी की मरहूम बीवी 'तजम्मुल बेगम' के नाम पर करने के लिए सरकार से मांग कर रहे हैं, वहीं सरकार का कहना है कि कादरी के परिजनों की बात पर विचार किया जाएगा. एक अधिकारी ने बताया है कि इस बारे में बात की जा रही है, जल्द ही कोई निर्णय लिया जाएगा. 

खबरें और भी:-

भारत सरकार ने किया ऐलान, 6 एयरपोर्ट को देगी लीज पर

केंद्र सरकार करेगी इलाहाबाद बैंक की 3,054 करोड़ रुपये देकर आर्थिक सहायता

फोर्टिस को बीच मझधार ने छोड़, सीईओ भवदीप सिंह ने दिया इस्तीफा

?