पिता के अंतिम दर्शन के लिए नहीं जा सका शहाबुद्दीन, तिहाड़ जेल से नहीं मिली पेरोल

Sep 20 2020 05:09 PM
पिता के अंतिम दर्शन के लिए नहीं जा सका शहाबुद्दीन, तिहाड़ जेल से नहीं मिली पेरोल

पटनाः विगत 3 वर्षों से दिल्ली की तिहाड़ जेल में कैद बिहार के बाहुबली शहाबुद्दीन अपने पिता के अंतिम संस्कार में नहीं जा सके। दरअसल, तिहाड़ जेल ने उन्हें पैरोल देने से मना कर दिया है। वहीं लंबी कानूनी प्रक्रिया को इसका कारण बताया जा रहा है।जानकारी के मुताबिक, शनिवार को सीवान से राजद के पूर्व सांसद मो. शहाबुद्दीन के पिता का इंतकाल हो गया था, जिसके कारण उन्होंने तिहाड़ जेल के डीसी के पास पैरोल को लेकर आवेदन दिया था। किन्तु उन्हें पैरोल नहीं मिल सकी। 

उल्लेखनीय है कि शहाबुद्दीन के पिता शेख हसिब्बूल्लाह का इंतकाल शनिवार को हुआ था। 85 वर्षीय शेख हसिब्बूल्लाह तक़रीबन 2 महीने से बीमार चल रहे थे, जिन्हें उपचार के लिए पटना के एक अस्पताल में एडमिट करवाया गया था। उपचार के बाद उन्हें वापस घर ले जाया गया था, जहां उन्होंने अपने पैतृक आवास पर ही अंतिम सांस ली। बता दें कि शहाबुद्दीन दिल्ली की जेल में आजीवन कारावास की सजा काट रहे हैं। 

पटना उच्च न्यायालय के 30 अगस्त, 2017 को दिए फैसले पर शीर्ष अदालत ने मुहर लगाई थी। शहाबुद्दीन को ये सजा 2004 में हुए दोहरे हत्याकांड मामले में सुनाई गई थी। वर्ष 2004 में शहाबुद्दीन और उसके गुर्गों ने रंगदारी नहीं देने पर सीवान के अंतर्गत आने वाले प्रतापपुर गांव में चंदा बाबू के 2 बेटों सतीश और गिरीश रौशन को तेजाब डालकर जिंदा जला डाला था। इस केस में शहाबुद्दीन समेत 4 लोगों को आजीवन कारावास की सजा सुनाई गई थी।

सेंसेक्स की टॉप कंपनियों के बाजार पूंजीकरण में आई गिरावट, RIL को भी उठानी पड़ी हानि

क्या 25 से देशभर में फिर लगेगा लॉकडाउन ? आपदा प्रबंधन के नाम से चिट्ठी वायरल

एआईएफएफ जल्द कोचों के लिए करेगा अंतर्राष्ट्रीय वर्चुअल कांफ्रेंस का आयोजन