शब्द -उमेश पंत

शब्द -उमेश पंत

शब्द...

शब्द गिरगिट की तरह होते हैं
और बदल जाते हैं पल में
मायनों की तरह ।

रोशनी से मिलते हैं शब्द
और बिखर जाते हैं
जैसे दूधिया चमक में
नहा जाती हैं पानी की बूँद
और पल भर रुककर
बिखर जाती है खुशी-सी

 

शब्द मिलते हैं अँधेरे से
और सिकुड़ जाते हैं सन्नाटे में
तब शब्दों से बड़ा डर लगता है
तब वो रुलाने लगते हैं ।

शब्द जब चढ़ते हैं
किसी शिकारी की बन्दूक में
भेद जाते हैं नसों को ।
ताज़ा ख़ून
फूट पड़ता है फव्वारे-सा ।
और क्षत-विक्षत हिरन के घाव पर
शब्द चिपक जाते हैं मौत से ।

शब्द बदल जाते हैं क्रान्ति में
जब कोई मज़दूर
जान लेता है कि वह मज़दूर है
पर मज़दूर होना ही
भाग्य नहीं है उसका ।
तब
शब्द किसी जुलूस की शक़्ल में 
सड़कों में गूँज रहे होते हैं
शब्द बन जाते हैं तब
परिवर्तन की उम्मीद.

-उमेश पंत

क्रिकेट से जुडी ताजा खबर हासिल करने के लिए न्यूज़ ट्रैक को Facebook और Twitter पर फॉलो करे! क्रिकेट से जुडी ताजा खबरों के लिए डाउनलोड करें Hindi News App