गुरुनानक की इन 7 कड़ी परीक्षाओं को पार कर गुरु बने थे अंगद देवजी

Sep 07 2018 06:20 AM
गुरुनानक की इन 7 कड़ी परीक्षाओं को पार कर गुरु बने थे अंगद देवजी

सिक्खों के दूसरे गुरू अंगद देव का जन्म 31 मार्च 1504 ईश्वी को हुआ था और मार्च महीने की ही 28 तारीख को 1552 ईश्वी में इन्होंने शरीर त्याग दिया. इनका वास्तविक नाम लहणा था. गुरू नानक जी ने इनकी भक्ति और आध्यात्मिक योग्यता से प्रभावित होकर इन्हें अपना अंग मना और अंगद नाम दिया. नानक देव जी ने जब अपने उत्तराधिकारी को नियुक्त करने का विचार किया तब अपने पुत्रों सहित लहणा यानी अंगद देव जी की कठिन परीक्षाएं ली. परीक्षा में गुरू नानक देव जी के पुत्र असफल रहे, केवल गुरू भक्ति की भावना से ओत-प्रोत अंगद देव जी ही परीक्षा में सफल रहे. 

नानक देव ने पहली परीक्षा में कीचड़ के ढे़र से लथपथ घास फूस की गठरी अंगद देव जी को सिर पर उठाने के लिए कहा, जिसे वे ख़ुशी-ख़ुशी उठा लाए.

दूसरी परीक्षा में नानक देव ने धर्मशाला में मरी हुई चुहिया को उठाकर बाहर फेंकने के लिए कहा, उन दिनों यह काम केवल शूद्र किया करते थे, जात-पात की परवाह किये बिना अंगद देव ने चुहिया को धर्मशाला से उठाकर बाहर फेंक दिया.

तीसरी परीक्षा में गुरू नानक देव जी ने मैले के ढ़ेर से कटोरा निकालने के लिए कहा. नानक देव के दोनों पुत्रों ने ऐसे करने से इंकार कर दिया जबकि अंगद देव जी गुरू की आज्ञा मानकर इस कार्य के लिए सहर्ष तैयार हो गये.

चौथी परीक्षा के लिए नानक देव जी ने सर्दी के मौसम में आधी रात को धर्मशाला की टूटी दीवार बनाने की हुक्म दिया, अंगद देव जी इसके लिए भी तत्काल तैयार हो गये.

पांचवी परीक्षा में गुरु नानक देव ने सर्दी की रात में कपड़े धोने का हुक्म दिया. सर्दी के मौसम में रावी नदी के किनारे जाकर इन्होंने आधी रात को ही कपड़े धोना शुरू कर दिया.

छठी परीक्षा में नानक देव ने अंगद देव की बुद्धि और आध्यात्मिक योग्यता की जांच की, एक रात नानक देव ने अंगद देव से पूछा कि कितनी रात बीत चुकी है. अंगद देव ने उत्तर दिया परमेश्वर की जितनी रात बितनी थी बीत गयी, जितनी बाकी रहनी चाहिये उतनी ही बची है. इस उत्तर को सुनकर गुरु नानक देव समझ गये कि उनकी अध्यात्मिक अवस्था चरम सीमा पर पहुंच चुकी है.

सातवीं परीक्षा लेने के लिए नानक देव जी अंगद देव को शमशान ले गये, शमशान में एक मुर्दे को देखकर नानक देव ने कहा कि तुम्हें इसे खाना है, अंगद देव इसके लिए भी तैयार हो गये. तब नानक देव ने अंगद को अपने सीने से लगा लिया और अंगद देव को अपना उत्तराधिकारी बना लिया.

ये भी पढ़ें:-

पुण्य तिथि : अपने जीवन में हमेशा ही मस्तमौला रहे शम्मी कपूर

Death Anniversary: गुरु रामदास जिन्हे पवित्र शहर अमृतसर का जनक कहते हैं

मदर टेरेसा के यह 5 विचार आपके जीवन को देंगे नई ऊर्जा

?