हरियाणा : जल्द शराब घोटाले की जांच में सामने आ सकते है संभावित आरोपीयों के नाम

लॉकडाउन और कोरोना संकट के बीच हरियाणा में शराब घोटाले की जांच के लिए गठित एसईटी ने सरकार से 31 मई की समय सीमा दो माह तक बढ़ाने की मांग की है. फाइल मुख्यमंत्री मनोहर लाल के पास पहुंच गई है. सूत्रों के मुताबिक समय सीमा बढ़ाया जाना तय है.

दिल्ली-पंजाब सहित इन इलाकों में आज होगी बारिश, भीषण गर्मी से लोगों को मिलेगी राहत

आपकी जानकारी के लिए बता दे कि इस बीच सरकार की ओर से एसईटी में शामिल एडीजीपी सुभाष यादव के सेवानिवृत्ति के आर्डर जारी कर दिए गए हैं. वे 31 मई को सेवानिवृत्त हो रहे हैं. पहले ये अटकले थीं कि एसईटी की समय सीमा बढ़ने पर सुभाष यादव को एक्सटेंशन दी जा सकती है, लेकिन ऐसा नहीं हुआ. अब रोहतक रेंज के एडीजीपी संदीप खिरवार को एसईटी में शामिल किए जाने पर विचार हो रहा है. वही, माना जा रहा है कि खिरवार पहले से ही इस मामले को देख रहे हैं. उनकी निगरानी में ही शराब घोटाले से संबंधित सभी एफआईआर दर्ज हुई हैं. खिरवार की गिनती हरियाणा के तेज तर्रार पुलिस अधिकारियों में की जाती है. कुल मिला कर एसईटी की समय सीमा बढ़ी तो यह मामला लंबा खिंचेगा.

पति इरफ़ान की मौत को हुआ एक महीना, पत्नी ने शेयर की तस्वीर

इस मामले को लेकर सूत्रों के मुताबिक जो काम एसईटी को दिया गया है. वह तय समय सीमा में पूरा हो पाना भी मुश्किल है. जिस स्तर का यह शराब घोटाला है, उस स्तर पर सभी पहलुओं की जांच की जाए तो अभी तीन से छह माह का समय भी लग सकता है. आबकारी और पुलिस महकमे की मिलीभगत को जांचने के लिए भी लंबा समय चाहिए. यह सारा कुछ 31 मई से पहले एसईटी के लिए जांच करना संभव नहीं था.

रिचा चड्ढा के निशाने पर आईं कोमल शर्मा

ममता बनर्जी का बड़ा बयान, जारी रहेगा लॉकडाउनप्रवासी मजदूरों के बाद

177 महिलाओं के लिए मसीहा बने सोनू सूद

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -