सीहोर कलेक्टर का आदेश, कहा- "शासकीय कार्यालयों की ऊर्जा खपत में..."

सीहोर: देश भर में कई तरह की परेशानियों का हम रोज सामना करते है, फिर वह चाहे आपदा हो या निजी जीवन को आगे बढ़ाने वाली कोई वस्तु। देश भर में बढ़ती महंगाई ने आमजन के जीवन को बहुत ही ज्यादा प्रभावित किया है। पेट्रोल से लेकर खाने तक की वस्तुओं के दाम मानो जैसे आसमान छू रहे है। ऐसे में जनता क्या करें अब खाने के लिए कमाए या जीने के लिए ये सबसे बड़ा प्रश्न है। 

बढ़ती महंगाई के इस दौर में न सिर्फ लोगों का जन जीवन प्रभावित हुआ है, बल्कि बिजली आज  के दाम भी आसमान छूने लगे है। लेकिन मुद्दा यह है की बिजली आज हर एक व्यक्ति की अवश्यक वस्तु में से एक है। जीवन के आधे से ज्यादा काम बिजली के माध्यम से किए जाते है। कई बार हमें यह भी बताया जाता है की बिजली की बचत ज्यादा से ज्यादा करना चाहिए। क्यूंकि इसकी बचत से कई और भी दूसरे काम किए जा सकते है।

ऐसे में खबर सामने आई है की सीहोर कलेक्टर चंद्र मोहन ठाकुर ने सभी कार्यालय प्रमुखों को आदेश जारी किए है कि समस्त शासकीय कार्यालयों की ऊर्जा खपत में कम से कम 10 फीसद की बचत की जानी चाहिए। उन्होंने बोला है कि यह सुनिश्चित करें कि कार्यालय में जरूरत न होने पर उपकरण को मेन स्विच से ऑफ करे दें।

अर्थव्यवस्था में सुधार वैश्विक बाजार से सुरक्षित नहीं है: शक्तिकांत दास

कौन है CDS बिपिन रावत की पत्नी मधुलिका रावत? हर दौरे पर इस कारण रहती हैं साथ

कल संसद में बयान जारी करेंगे रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -