स्कूली बच्चों पर भारी पड़ी, बंदरों के अस्तित्व की लड़ाई

स्कूली बच्चों पर भारी पड़ी, बंदरों के अस्तित्व की लड़ाई

आमतौर पर बंदरों का उत्पात तो बहुत से लोगों ने अपनी आंखों से देखा होगा और वही इसके बारे में सूना भी होगा लेकिन क्या आपने कभी इस लड़ाई में किसी स्कूल की दीवार गिरने के बारे में सुना है। शायद नहीं मगर महाराष्ट्र के जालना जिले के पिपलगांव में ऐसी घटना घटी है। यहां बंदरों के दो गुटों में वर्चस्व की लड़ाई हुई जिसमें पचास साल पुराने स्कूल की दीवारें गिर गईं।

पिछले 33 साल से सिर्फ चाय पीकर ही जिन्दा है ये महिला

नहीं हुई कोई हताहत 

सूत्रों से प्राप्त जानकारी के अनुसार घटना के समय स्कूल में करीब डेढ़ सौ स्कूली बच्चे मौजूद थे। हालांकि खुशकिस्मती यह रही कि उस समय बच्चों की छुट्टी हो रही थी। इस कारण सभी बाहर निकल चुके थे। इससे एक बड़ा हादसा होते-होते रह गया। हुआ यूं कि बंदरों का एक समूह शुक्रवार को जिला परिषद स्कूल में पानी पीने के लिए आया था। कुछ देर बाद दूसरा गुट भी वहां पहुंच गया। 

इसलिए नहीं आते बच्चों की आँखों में आंसू

गाँव में बड़े बन्दर 

एक प्रत्यक्षदर्शी के अनुसार बन्दर के दोनों गुटों में वर्चस्व की लड़ाई शुरू हो गई। इस दौरान बंदरों ने स्कूल की छत पर काफी उत्पात मचाया जिससे कक्षाओं की दीवारें गिर गईं। वन अधिकारी ने बताया कि पिछले 6 महीने से गांव में बंदरों की संख्या काफी बढ़ रही है। ग्रामीणों की शिकायत पर बंदरों को पकड़ने की मुहिम चलाई जा रही है। जिसके अंतर्गत 250 बंदरों को अभी तक पकड़ा जा चुका है।

अगर अपने साथी को सात जन्म तक पाना चाहते हैं तो इस मंदिर में करें शादी

ऐसे हुई Kiss की उतपत्ति, जानवर भी करते हैं किस

महिला को हुई ऐसी विचित्र बीमारी जिसमे नहीं सुनाई देती मर्दों की आवाज