केरल बाढ़ : आखिर क्यों एक कागज के लिए फंदे पर झूल गया देश का भविष्य ?

नई दिल्ली : केरल बाढ़ में अब तक करीब 375 लोगों ने अपनी जान गंवा दी है. वहीं हजारों लोग अब तक बेघर भी हुए हैं. वहीं अब केरल बाढ़ से आत्महत्या का एक ताजा मामला सामने आया है, बता दें कि केरल बाढ़ का यह आत्महत्या का पहला मामला है. यह एक स्कूली छात्र ने इसलिए अपनी जान दे दी क्योंकि उसका 12वीं कक्षा का प्रमाणपत्र बारिश और बाढ़ के चलते खराब हो गया था. 

केेरल के लोगों की मदद के लिए आगे आया 'बाहुबली'

अपना 12वीं कक्षा का प्रमाणपत्र खराब होने के चलते 19 वर्षीय छात्र इतना निराश हो गया कि उसने मौत को गले लगाया. इस सम्बन्ध में आज पुलिस ने जानकारी प्रदान की है. यह घटना केरल के कोझिकोड जिले की बताई जा रही है. जहां 19 वर्षीय युवक कैलाश का घर पानी में डूब गया था, इसके बाद उसके परिवार को रहत शिविर में भेज दिया गया.

केरल बाढ़ के तीन अनजाने मददगार, जिन्होंने क़ायम की मिसाल

कैलाश ने जब बारिश रूकने के बाद अपने घर की ओर रूख किया और उसने जब बारिश भीगे अपने 12वीं काखा के प्रमाणपत्र को देखा तो उसे हताशा हाथ लगी. प्राप्त मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, युवा इ इसके बाद फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली. पुलिस ने कहा कि  मौत का पता उस वक्त चला जब उसके परिजन शाम को घर की साफ सफाई करने आए. 

खबरें और भी...

केरल बाढ़ : गर्भवती महिला को सुरक्षित बचाने वाले कमांडर को घर की छत ने कहा धन्यवाद

केरल बाढ़: वेंकैया नायडू ने बुलाई आपात बैठक, राहत उपायों पर की चर्चा

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -