कोरोना के बढ़ते मामलों के चलते यूपी सरकार ने लिया बड़ा फैसला, इन चीजों पर 30 अप्रैल तक लगाया प्रतिबंध

लखनऊ: कोरोना महामारी के कारण देश की कई चीजों में रुकावट उत्पन्न हुई है वही इस बीच देश के सबसे बड़े राज्य उत्तर प्रदेश में बढ़ते कोरोना केसों को देखते हुए कक्षा 01 से 12वीं तक के सभी सरकारी/गैर सरकारी स्‍कूल अब 30 अप्रैल तक के लिए बंद कर दिए गए हैं। कोचिंग केंद्र भी इस के चलते क्‍लासेज़ नहीं लगा सकेंगे। इस के चलते सिर्फ पहले से तय परीक्षाएं ही हो सकेंगी। मुख्यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ ने अपने मंत्रियों की बैठक के पश्चात् यह निर्णय लिया है।

राज्य में बोर्ड परीक्षाएं अब नये शेड्यूल के मुताबिक, 08 मई से आरम्भ होनी है। स्‍कूल बंद होने के निर्णय से बोर्ड परीक्षार्थियों की तैयारी में समस्या आ सकती है। स्‍कूल अब सिर्फ ऑनलाइन क्‍लासेज़ ही आयोजित कर सकते हैं तथा प्रैक्टिकल्‍स के लिए भी क्‍लास आयोजित नहीं कर सकेंगे। उन्‍होंने कहा कि कोरोना पर प्रभावी नियंत्रण के लिए टेस्ट, ट्रेस तथा ट्रीट के मंत्र को आत्मसात कर कार्य किया जाना चाहिए। राज्य में रोजाना न्यूनतम एक लाख RTPCR टेस्ट किए जाएं तथा सभी सरकारी तथा प्राइवेट टेस्टिंग लैब पूरी क्षमता के साथ कार्य करें। टेस्टिंग में देरी न की जाए जिससे कोरोना पर प्रभावी तौर पर लगाम लगाई जा सके।

साथ ही सीएम ने कहा कि ये आवश्यक है कि सभी कार्यालयों/औद्योगिक इकाइयों में कोरोना प्रोटोकॉल का अनुपालन सुनिश्चित किया जाए। कोरोना हेल्प डेस्क सक्रीय रहें। मतदान कर्मियों, पुलिस कर्मियों तथा चिकित्सा कर्मियों की सुविधा तथा सुरक्षा का पूरा ख्याल रखा जाए तथा मास्क, सैनिटाइजेशन के प्रति जनता को निरंतर जागरूक किया जाए। सीएम ने यह भी कहा कि टीकाकरण का काम राज्य में तेजी से चल रहा है। अब तक 85 लाख से ज्यादा व्यक्तियों का टीकाकरण हो चुका है। प्रदेश में 4 दिवसीय 'टीका उत्सव' आज से शुरू हुआ है। 6000 केंद्रों पर टीकाकरण का कार्य जारी है। टीकाकरण के काम में और तेजी लाई जाएगी जिससे हर्ड इम्‍यूनिटी पैदा हो सके।

एआर रहमान ने की शाहरुख खान की प्रशंसा, वजह है बहुत ही खास

सुशांत सिंह राजपूत को भुला रही है रिया चक्रवर्ती, शेयर की ये पोस्ट

24 घंटे में बिगड़े कोरोना से ओडिशा के हाल, सामने आए 1300 से ज्यादा मामले

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -