बच्चों को सिखाएंगे कैसे लिखी जाती है डायरी

भोपाल :  प्रदेश के सरकारी स्कूली बच्चों को अब डायरी लेखन करना सिखाने का काम किया जायेगा। अभी शिक्षा विभाग ने यह प्रस्ताव तैयार शासन की तरफ भेजा है, वहां से यदि प्रस्ताव को हरी झंडी मिल जाती है तो नये शैक्षणिक सत्र में स्कूली बच्चे स्कूल में पढ़ाई के साथ-साथ डायरी लिखते हुये भी नजर आएंगे।
दरअसल शिक्षा विभाग का उद्देश्य बच्चों से हिन्दी भाषा का शुद्ध लेखन कराना है। विभाग के अधिकारियों का मानना है कि नियमित रूप से डायरी लिखने से न केवल भाषा शुद्ध होगी वहीं सुंदर अक्षर लिखने की भी आदत बच्चों में होगी। इसके अलावा च्चों को परीक्षा में भी अच्छे नंबर लाने में मदद मिलेगी।

विभाग ने कक्षा 6 से 12 तक के स्कूली विद्यार्थियों के लिये डायरी लेखन करने का प्रस्ताव शासन को भेजा है। प्राप्त जानकारी के अनुसार डायरी में पुस्तक पाठों के अलावा परिवार और समाज से जुड़े अनुभव लिखने की आदत सीखेंगे और इसके लिये शिक्षक बच्चों को अतिरिक्त रूप से मदद करेंगे।

विद्या बालन को बचपन की डायरी से मिले कई सीक्रेट्स

 

 

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -