छात्रवृत्ति घोटाला मामले की जांच में आयी तेज़ी, खाते में आये इतने पैसे

कोरोना काल के बाद लॉक डाउन लग गया और फिर  छात्रवृत्ति घोटाले का मामला ठंडा हो गया था| अब जब लॉक डाउन खुल गया है तो  इस मामले पर एक बार फिर सवाल उठ रहे है | वहीं करोड़ों रुपये के छात्रवृत्ति घोटाले पर एसआईटी ने जांच शुरू करी तो गिरफ्तारी के डर से अभियुक्तों ने समाज कल्याण निदेशालय के खाते में रकम लौटानी शुरू कर दी है । इसके बाद हाईकोर्ट के आदेश पर खोले गए इस खाते में अब तक लगभग साढ़े छह करोड़ रुपये जमा कर दिए गए हैं। जबकि, जितनी बड़ी धनराशि का यह घोटाला है, उसकी तुलना में यह रकम बहुत छोटी  है। वहीं समाज कल्याण निदेशालय ने बैंक ऑफ बड़ौदा की शाखा में यह खाता खोला हुआ है। इसके साथ ही रकम लौटाने वाले लोग अलग व्यावसायिक शिक्षण संस्थानों के संचालक हैं। इसके साथ ही हाईकोर्ट ने इस मामले में राज्य सरकार को आदेश भी दिया था कि खाते में जमा होने वाली रकम का ब्याज वह लेगी। परन्तु मूल धनराशि तब तक जमा रहेगी जब तक अभियुक्त के विरुद्ध  अंतिम निर्णय नहीं आ जाता है । इसके साथ सूचना के अधिकार से प्राप्त जानकारी के अनुसार  खाते में धनराशि जमा करने वालों में वे छात्र भी शामिल हैं, जिन्होंने कम वार्षिक आय दिखाकर छात्रवृत्ति हासिल की है।

छात्रवृत्ति घोटाले में अब तक 
मई  साल 2017 में मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने एसआईटी जांच करने का आदेश दे दिया था। और अक्तूबर 2019 भाजपा नेता रविंद्र जुगरान ने उच्च न्यायालय में याचिका दायर कर दी थी| साथ ही हाईकोर्ट की निगरानी में जांच की मांग भी की है । इसके अलावा  दिसंबर 2018 में पुलिस अधीक्षक टीसी मंजूनाथ की अध्यक्षता में एसआईटी बन गयी थी। साथ ही हाईकोर्ट के निर्देश पर एसआईटी ने जांच में तेजी दिखाना शुरू कर दिया था। वहीं देहरादून और हरिद्वार में अब तक लगभग 80 मुकदमे दर्ज किये जा चुके है। एसआईटी अभी तक 120 कॉलेजों को जांच के दायरे मे लिया जा चूका है। 

लगभग  70 से अधिक गिरफ्तारियां हो चुकी हैं। साथ  ही 11 जिलों में आईजी संजय गुंज्याल के नेतृत्व में अलग एसआईटी बनी है । एसआईटी ने 53 मुकदमे दर्ज किए, जिनमें से 45 राज्य के बाहर के हैं।न्यायालय के आदेश पर बैंक ऑफ बड़ौदा में एक खाता खोला जा चूका  है। वहीं खाते में रकम जमा होती रहती  है।  धनराशि कितनी है, इस बारे में बताना अभी नहीं बताया जा सकता है। लगभग  सभी इन्वेस्टीगेशन पूरी हो चुकी  हैं। अगले 15 दिनों में कई मामले फाइनल करने हैं। केस फाइनल करने के बाद दो-चार केस और दर्ज हो सकते हैं। अब तक 53 केस दर्ज हुए हैं, जिनमें से स्टेट के बाहर 45 हैं। कई गिरफ्तारियां भी हुई हैं। 

पंजाब के एक लड़के ने PUBG में लगा दिए इतने रूपये

अगर आपको किसी ने WhatsApp पर कर दिया ब्लॉक, तो ऐसे करें उसे मैसेज

कानपूर मुठभेड़ में चौंकाने वाला खुलासा, शूटआउट से पहले विकास दुबे ने बुला रखे थे 30 शार्पशूटर

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -