बैंक कर्मचारियों को मिल सकती है खुश खबरी

मुंबई : स्टेट बैंक ऑफ इंडिया (SBI) के कर्मचारियों को बहुत जल्द एक खुश खबरी मिल सकती है. हाल ही में SBI ने सरकार से अपने सालाना मुनाफे का 3 प्रतिशत स्टाफ को इंसेंटिव देने की इजाजत मांगी है. बैंक का कहना है कि इससे टॉप प्रफेशनल्स को हायर किया जा सके ताकि परफॉर्मेंस सुधारने में मदद मिल सके. क्योकि काम सैलरी के कारण टॉप प्रफेशनल्स अन्य बैंकों की ओर रुख कर रहे हैं. योजना के अनुसार SBI असिस्टेंट जनरल मैनेजर लेवल से ऊपर के स्टाफ को स्टॉक ऑप्शंस देने पर विचार कर रहा है. प्राप्त जानकारी के अनुसार अगर सरकार बैंक की मांग मान लेती है तो उसके 2 लाख एंप्लॉयीज को 390 करोड़ रुपये की सौगात मिल सकती है. सूत्रों कि माने तो SBI ने अभी तक इंसेंटिव स्कीम को अंतिम रूप नहीं दिया है. SBI इस योजना के जरिए प्राइवेट सेक्टर के टैलंट को सरकारी बैंकों में लाना चाहता है.

इस बारे में SBI के डिप्टी मैनेजिंग डायरेक्टर और कॉर्पोरेट डिवेलपमेंट ऑफिसर अश्विनी मेहरा ने बताया कि हम नए परफॉर्मेंस बेस्ड इंसेंटिव स्ट्रक्चर के लिए सभी रेग्युलेटरी अप्रूवल्स ले रहे हैं. हालांकि, उन्होंने इन प्रस्तावों के बारे में ज्यादा जानकारी नहीं दी. गौरतलब है कि सरकारी बैंकों में असिस्टेंट और डिप्टी जनरल मैनेजर की उम्र 42 से 52 साल के बीच होती है, जबकि प्राइवेट सेक्टर बैंकों में बहुत कम उम्र के लोग ही वाइस प्रेसिडेंट बन जाते हैं और उनकी सैलरी भी सरकारी बैंकों की तुलना में काफी अधिक होती है. SBI में AGM या DGM स्तर के ऐग्जिक्युटिव की सैलरी 22-28 लाख रुपये सालाना होती है. वहीँ बड़े प्राइवेट बैंकों में इस स्तर के अधिकारियों को 35-45 लाख रुपये मिलते हैं.

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -