श्रावण के पहले सोमवार पर शिवालयों में उमड़ेगा श्रद्धालुओं का सैलाब

इस सोमवार भगवान शिव के भक्तों के लिए बहुत ही खास है। दरअसल शनिवार से प्रारंभ हुए श्रावण मास का पहला सोमवार मनाया जाएगा। इस दौरान शिव मंदिरों में श्रद्धालुओं का तांता लगेगा। तो दूसरी ओर बारह ज्योर्तिलिंग में से एक श्री महाकालेश्वर मंदिर में तड़के 2.30 बजे से ही भस्मारती की तैयारियां प्रारंभ कर दी जाऐंगी। यह एक मात्र ऐसा मंदिर है जहां श्री शिव भस्म स्नान करते हैं।

यही नहीं श्रावण के पहले सोमवार के दिन काशी विश्वनाथ, घृष्णेश्वर, भीमा शंकर, ओंकारेश्वर समेत सभी प्रमुख मंदिरों में श्रद्धालुओं का सैलाब उमड़ेगा। श्रद्धालु बम बम भोले और जय शिव के जयकारों के साथ भगवान का दर्शन करने उमड़ेंगे। इस दौरान श्रद्धालु बिल्व पत्र, हारफूल और प्रसाद का भोग शिव को अर्पित करेंगे। माना जाता है कि श्रावण मास में शिव के दर्शन से सभी पाप समाप्त हो जाते हैं और श्रद्धालुओं को शिव लोक की प्राप्ति होती है।

शिव अपने श्रद्धालुओं और भक्तों पर विशेष कृपा करते हैं। इस दौरान हर कहीं हर हर महादेव की गूंज सुनाई देती है। शिव के दर्शनों के साथ ज्योर्तिलिंगों को स्पर्श करने के लिए श्रद्धालु उमड़ते हैं। मध्यप्रदेश के उज्जैन और ओंकारेश्वर में भी श्रद्धालुओं का सैलाब ज्योर्तिलिंगों के दर्शनों के लिए उमड़ेगा

साथ ही कावडि़ये भी अपनी यात्रा पर निकल पड़े हैं। सोमवार के अलावा पूरे सावन मास में कावडि़यों द्वारा ज्योर्तिलिंगों का अपनी कावड़ में भरे गए जल से जलाभिषेक किया जाएगा। श्रावण मास में शिव आराधना बेहद ही पुण्यदायी मानी जाती है। इस मास में बारह ज्योर्तिलिंग में से किसी ज्योर्तिलिंग के दर्शन भी बेहद पुण्य फलदायी होते हैं। 

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -