PPF जमा पर जानिये क्या है यह 5 नियम, जिनमे आये है परिवर्तन

PPF जमा पर जानिये क्या है यह 5 नियम, जिनमे आये है परिवर्तन

बीते साल दिसंबर में सरकार ने छोटी बचत जमा के तरीके में कुछ परिवर्तन किए। इस परिवर्तन के चरण में पीपीएफ योजना के नियमों में कुछ प्रक्रियात्मक परिवर्तन किए गए थे। हम इस खबर में ऐसी पांच बदलाव के बारे में जानकारी दे रहे हैं, जिनके बारे में आपको भी जानना चाहिए।

PPF योगदान
PPF खाते में किया जा सकने वाला न्यूनतम और अधिकतम योगदान बिना किसी परिवर्तन के है, परन्तु PPF खाता खोलने के लिए आवश्यक न्यूनतम राशि को एक वित्तीय वर्ष में किए जाने वाले योगदान की संख्या के साथ बदल दिया गया है। इसके साथ ही योगदान राशि 50 रुपये के गुणकों में होनी चाहिए और 500 रुपये या उससे ज्यादा के बराबर होनी चाहिए, परन्तु 1.5 लाख रुपये से अधिक नहीं होनी चाहिए। इसके अलावा एक महीने में पीपीएफ खाते में एक से अधिक योगदान किए जा सकते हैं।

नया फॉर्म
पीपीएफ खाता खोलने के लिए, अब आपको फॉर्मA के बजाय फॉर्म1 जमा करना होगा, जो पहले उपयोग किया गया था। पीपीएफ खाते (जमा के साथ) के विस्तार के लिए 15 साल के बाद फॉर्मH के बजाय फॉर्म-4 में मैच्योरिटी से एक साल पहले एक आवेदन जमा करना होता है, जो पहले उपयोग किया गया था।

बिना जमा राशि के पीपीएफ खाता विस्तार
यदि आप बिना किसी और योगदान के 15 साल की मैच्योरिटी अवधि के बाद अपने पीपीएफ खाते का विस्तार करने का विकल्प चुन रहे हैं, तो आप प्रत्येक वित्तीय वर्ष में एक बार निकासी कर सकते हैं।

पीपीएफ कर्ज पर ब्याज दर
PPF बैलेंस के बदले लिए गए कर्ज पर ब्याज दर 2% से घटाकर 1% कर दी गई है। एक बार जब आप कर्ज की मूल राशि का भुगतान कर देते हैं, तो आपको दो से ज्यादा किस्तों में कर्ज का ब्याज चुकाना होगा। ब्याज की गणना महीने के पहले दिन से की जाएगी, जिसमें आप उस महीने के अंतिम दिन तक लोन लेते हैं, जिसमें लोन मूलधन की अंतिम किस्त चुकाया जाता है।

लोन अमाउंट
जिस वर्ष कर्ज लागू किया जा रहा है, उससे दो साल पहले आप खाते में उपलब्ध पीपीएफ बैलेंस के 25% तक का कर्ज ले सकते हैं। 

IRCTC Tour Package: इस पैकेज के जरिये मिलेगा उत्तराखंड के पहाड़ों में घूमने का मौका

Personal Loan: SBI, PNB और HDFC बैंक में जानिये किसकी ब्‍याज दर है कम

SBI Cards IPO: 750-755 रुपये प्रति शेयर हो सकता है प्राइस बैंड, 2 मार्च से सब्‍सक्रिप्‍शन शुरू