साथ दिया होता

साथ दिया होता

हमें किसी से मोहब्बत नहीं सिवाय तेरे

हमें किसी की जरूरत नहीं सिवाय तेरे

हमें जिसकी तलाश थी बरसो से

किसी के पास जवाब नहीं इसका

जो मेरी जिंदगी से खेले किसी खिलोने की तरह

यह हक़ नहीं किसी को सिवाय तेरे

नसीब बता यह किस मोड़ पर तूने छोड़ दिया

एक मोड़ तक तो साथ दिया होता,

किस मोड़ पर छोड़ दिया प्यार किया

ठुकराया और तोड़ दिया

एक मोड़ तक तो साथ दिया

होता यह किस मोड़ पर छोड़ दिया