कटाक्ष- सपने को पाने के लिए समझदार नहीं पागल बनना पड़ता है