सफला एकादशी पर जरूर पढ़े यह व्रत कथा, मिलेगा लाभ ही लाभ

Dec 31 2018 06:30 PM
सफला एकादशी पर जरूर पढ़े यह व्रत कथा, मिलेगा लाभ ही लाभ

साल में कई बार एकादशी आती हैं. ऐसे में इस साल यानी 2019 में पौष मास के कृष्णपक्ष की एकादशी आ रही है जिसे सफला एकादशी कहते हैं. आप सभी को बता दें कि इस बार सफल एकादशी 1 जनवरी को यानी मंगलवार को है. ऐसे में धर्म ग्रंथों के अनुसार, इस व्रत को करने से भगवान श्रीकृष्ण बहुत प्रसन्न होते हैं और मनचाहा वरदान देते हैं. तो आइए जानते हैं सफला एकादशी की कथा.

सफला एकादशी की कथा - चम्पावती नगर का राजा महिष्मत था. उसके पाँच पुत्र थे. महिष्मत का बड़ा बेटा लुम्भक हमेशा बुरे कामों में लगा रहता था. उसकी इस प्रकार की हरकतें देख महिष्मत ने उसे अपने राज्य से बाहर निकाल दिया. लुम्भक वन में चला गया और चोरी करने लगा. एक दिन जब वह रात में चोरी करने के लिए नगर में आया तो सिपाहियों ने उसे पकड़ लिया किन्तु जब उसने अपने को राजा महिष्मत का पुत्र बतलाया तो सिपाहियों ने उसे छोड़ दिया. फिर वह वन में लौट आया और वृक्षों के फल खाकर जीवन निर्वाह करने लगा. वह एक पुराने पीपल के वृक्ष के नीचे रहता था. एक बार अंजाने में ही उसने पौष मास के कृष्ण पक्ष की एकादशी का व्रत कर लिया. उसने पौष मास में कृष्णपक्ष की दशमी के दिन वृक्षों के फल खाये और वस्त्रहीन होने के कारण रातभर जाड़े का कष्ट भोगा. सूर्योदय होने पर भी उसको होश नहीं आया. एकादशी के दिन भी लुम्भक बेहोश पड़ा रहा. दोपहर होने पर उसे होश आया.

उठकर वह वन में गया और बहुत से फल लेकर जब तक विश्राम स्थल पर लौटा, तब तक सूर्य अस्त हो चुका था. तब उसने पीपल के वृक्ष की जड़ में बहुत से फल निवेदन करते हुए कहा- इन फलों से लक्ष्मीपति भगवान विष्णु संतुष्ट हों. ऐसा कहकर लुम्भक रातभर सोया नहीं. इस प्रकार अनायास ही उसने सफला एकादशी व्रत का पालन कर लिया. उसी समय आकाशवाणी हुई -राजकुमार लुम्भक! सफला एकादशी व्रत के प्रभाव से तुम राज्य और पुत्र प्राप्त करोगे. आकाशवाणी के बाद लुम्भक का रूप दिव्य हो गया. तबसे उसकी उत्तम बुद्धि भगवान विष्णु के भजन में लग गयी. उसने पंद्रह वर्षों तक सफलतापूर्वक राज्य का संचालन किया. उसको मनोज्ञ नामक पुत्र उत्पन्न हुआ. जब वह बड़ा हुआ तो लुम्भक ने राज्य अपने पुत्र को सौंप दिया और वह स्वयं भगवान श्रीकृष्ण की भक्ति में रम गया. अंत में सफला एकादशी के व्रत के प्रभाव से उसने विष्णुलोक को प्राप्त किया.

इस व्रत से मिलता है मोक्ष, भगवान शिव देते हैं वरदान

यहाँ जानिए मोक्षदा एकादशी की व्रत कथा

इस दिन है मोक्षदा एकादशी, ऐसे करें व्रत मिलेगा लाभ