बर्खास्त आईपीएस अधिकारी संजीव भट्ट गिरफ्तार, ये है मामला

Sep 05 2018 05:47 PM
बर्खास्त आईपीएस अधिकारी संजीव भट्ट गिरफ्तार, ये है मामला

नई दिल्ली। गुजरात के पूर्व आईपीएस अधिकारी संजीव भट्ट को  गुजरात सीआईडी ने आज गिरफ्तार कर लिया। संजीव भट्ट के अलावा सीआईडी (क्राइम) ने 7 अन्य पुलिस अधिकारियों को भी इस मामले में गिरफ्तार किया है। दरअसल, संजीव पर ड्रग प्लांटिंग का आरोप है। 

सस्ते में घूम सकते हैं आप देश-विदेश, 4 एयरलाइन्स ने दिए ये ऑफर

जानकारी के अनुसार, सीआईडी ने संजीव के साथ पूर्व पीआई व्यास को भी हिरासत में लिया है और दोनों से  सीआईडी पूछताछ कर रही है। जानकारी के अनुसार, संजीव पर आरोप है कि 1998 में पालनपुर में ड्रग प्लांटिंग का आरोप है। जिस वक्त का यह मामला है, उस समय संजीव बनासकांठा के डीसीपी थे। इतना ही नहीं  संजीव पर ड्रग प्लांटिंग मामले में एक वकील को झूठा फंसाने का भी आरोप है। संजीव भट्ट ने राजस्थान के एक वकील पर एक होटल में अफीम रखने का आरोप लगाया था। जब इस मामले की जांच की गई, तो वकील को निर्दोष पाया गया। 

स्वच्छता सुविधाएं के मामले में भारत के स्कूलों में हो रही तेज़ तरक्की

बर्खास्त हैं संजीव भट्ट :

संजीव भट्ट फिलहाल बर्खास्त है। उनकी बर्खास्तगी गुजरात सरकार ने की है। दरअसल, संजीव भट्ट गुजरात के  तत्कालीन मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी का विरोध करने के कारण चर्चा में रह चुके हैं। भट्ट को अहमदाबाद में सरकारी गाड़ी और पुलिस कमांडो का इस्तेमाल करने का दोषी पाते हुए बर्खास्त किया गया था। गुजरात सरकार का कहना है कि संजीव को अनुशासनहीनता के आधार पर बर्खास्त किया गया है। 

एक साल तक वकीलों ने की थी हड़ताल 

दरअसल, जब संजीव ने राजस्थान के एक वकील को ड्रग प्लांटिंग मामले में फंसाया और जांच होने पर मामला झूठा साबित हुआ, तो गुस्से में राजस्थान के वकीलों ने इस मामले में हड़ताल कर दी। यह हड़ताल एक साल तक चली। इस मामले में  संजीव भट्ट के जानकार एक जज को सेवानिवृत्ति भी लेनी पड़ी थी। मामले के तूल पकड़ने पर राजस्थान सीआईडी ने एक मामला दर्ज किया। लेकिन संजीव भट्ट के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं हुई। अब 20 साल पुराने इस मामले में उनकी गिरफ्तारी हुई है।  

खबरें और भी

पश्चिम बंगाल: पुराने हादसों से सबक न लेने का नतीजा है 'मजेरहाट पुल हादसा'

फिर बिगड़ी दिलीप कुमार की तबियत मुंबई अस्पताल में भर्ती

?