कटाक्ष : हमारा हीरो कैसा हो, आसाराम, अबू, राम-रहीम जैसा हो...

Jul 28 2018 06:32 PM
कटाक्ष : हमारा हीरो कैसा हो, आसाराम, अबू, राम-रहीम जैसा हो...

आजकल देश—दुनिया से ज्यादा खबर संजय दत्त की चल रही है। संजू ​फिल्म ने भारत में 350 करोड़ कमा लिए हैं। एक टीवी चैनल पर संजय दत्त का इंटरव्यू आ रहा था। अब कल उनका जन्मदिन है, तो एक इंटरव्यू तो बनता है जी। संजय दत्त हीरो  तो हैं ही, वह अब टीवी एंकर भी बन गये। एक एंकर की तरह उन्होंने फिल्म के मुद्दे को लेकर अपनी बात भी रखी। चैनल पर वह एक एंकर की तरह बात करते दिखे। यह संजू का कमाल ही है। संजय दत्त का यह रूप देखकर लगा कि भाई जेल बड़े काम की चीज है। 


जेल में जाकर, वहां से वापस आकर उन पर फिल्म बनी और उसने पूरी दुनिया में 500 करोड़ से ज्यादा कमाए। फिल्म को देखकर ऐसा लगा कि संजय दत्त जेल नहीं बल्कि हिमालय यात्रा करकर आए  हों। उन्होंने कोई अपराध नहीं किया, बल्कि उन्होंने तो कुर्बानी दी है। हमारे एक मित्र मिले, उन्होंने कहा कि मैं श्रवण कुमार पर फिल्म बनाना चाहता हूं, एक आदर्श बेटे को दिखाना चाहता हूं, लेकिन बजट नहीं मिल रहा है। कोई पैसा लगाने को तैयार नहीं है। हमने उन्हें सलाह दी, राम—रहीम या आसाराम पर फिल्म बनाओ, तो बजट की कमी नहीं होगी। उन्हें विचार जम गया और अब उनकी फिल्म 80 फीसदी पूरी हो गई है। तो है न जेल बड़े काम की चीज। 

जेल जाकर आप फेमस हो सकते हैं। आप पर फिल्म बन सकती है और हमारा समाज उसे देखकर आपको हीरो बना सकता है। आपको 1000 करोड़ रुपये भी दे सकता है। लगता है कि अगले चुनाव में नारा मोदी या राहुल की जगह, हमारा  हीरो कैसा हो, आसाराम, राम—रहीम जैसा हो भी हो सकता है। बस डर ये है कि हमारे युवा इसे सीरियस न ले लें। 

तीखे बोल

कटाक्ष: बंट रहा है ज्ञान ले लो फ्री में...

कटाक्ष: दिल्ली गौशाला में 36 गायों ने की सामूहिक आत्महत्या

SATIRE: देश में भुखमरी के बीच विदेश को गाय का दान

?