मायावती के ऐलान के बाद अब सपा ने भी तोड़ी चुप्पी, कहा- अकेले लेंगे भाजपा से लोहा

मायावती के ऐलान के बाद अब सपा ने भी तोड़ी चुप्पी, कहा- अकेले लेंगे भाजपा से लोहा

लखनऊ: 2019 लोकसभा चुनाव में करारी शिकस्त के बाद बहुजन समाज पार्टी (बसपा) और समाजवादी पार्टी (सपा) के बीच सबंध अब खत्म हो चुके हैं. बसपा सुप्रीमो मायावती ने अब अकेले चुनाव लड़ने का ऐलान किया है. वहीं अब सपा ने भी कह दिया है कि उत्तर प्रदेश में वह भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) को चुनौती देने के लिए तैयार है. सपा ने बसपा सुप्रीमो मायावती के सभी आरोपों का खंडन करते हुए कहा कि पार्टी ने गठबंधन सदस्यों को जीतने के लिए भरसक कोशिशें की बल्कि बसपा ही अपना वोट ट्रांसफर कराने में नाकाम रही है.

सपा सूत्रों ने कहा है कि पार्टी भाजपा को यूपी में चुनौती देने के लिए तैयार है. किन्तु सपा ने मायावती के सभी आरोपों का खंडन किया और कहा कि पार्टी ने ग्राउंड पर गठबंधन बनाने के लिए कड़ी मशक्कत की. लोकसभा चुनावों में बसपा ही अपना कोर वोट बैंक समाजवादी पार्टी के प्रत्याशियों को ट्रांसफर कराने में विफल रही. अब बसपा की अपने दलित वोट बैंक पर पकड़ कमजोर पड़ने लगी है.

सपा के मुरादाबाद लोकसभा सीट से सांसद एसटी हसन ने कहा है कि पहले भी हम अकेले चुनाव लड़ते थे, आगे भी अकेले लड़ेंगे. सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव कभी फोन करके हिंदू मुस्लिम की बात नहीं करते हैं. हमारी पार्टी के पास अच्छा जनाधार है. बसपा के पास पिछले चुनाव में एक भी सीट नहीं थी, अब वह 10 सीट पर है. ये सब मायावती हमारी जुबान से क्यों कहलवाना चाह रही हैं.

अब बिना पुरुष के ही बच्चों को जन्म दे सकेगी महिलाएं, रिपोर्ट में हुआ खुलासा

पांडाल हादसा: जसोल पहुंचे सीएम गहलोत, मृतकों के परिजनों से की मुलाकात

अब दुर्गा पूजा समितियों से ममता का किला ढहाने की कवायद में भाजपा