बेटी ने दलित से किया विवाह, तो दुश्मन बने विधायक पिता, लेकिन सरकार देती है पैसा

बेटी ने दलित से किया विवाह, तो दुश्मन बने विधायक पिता, लेकिन सरकार देती है पैसा

चंडीगढ़: भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) विधायक राजेश मिश्रा की बेटी साक्षी मिश्रा के विवाह का मामला अभी सुर्खियों में है। साक्षी ने एक दलित से विवाह किया है और अब वे आरोप लगा रही हैं कि उन्हें धमकी मिल रही है। इस तस्वीर का दूसरा पहलू देखें तो भाजपा सरकार अंतर्जातीय शादियों को बढ़ावा देने के लिए ऐसे जोड़ों को ढाई लाख रुपये दे रही है।

गत वर्ष 2018 में लोकसभा के प्रश्नकाल केंद्रीय सामाजिक न्याय और अधिकतारिता राज्यमंत्री ने जानकारी देते हुए बताया था कि किस तरह जातीय भेदभाव को समाप्त करके सरकार अंतरजातीय विवाहों को प्रोत्साहित कर रही है। इसमें पति या पत्नी में से कोई एक अनुसूचित जाति से संबंध रखता हो तो सरकार ढाई लाख रुपये की सहायता देती है। उल्लेखनीय है कि , इंटर कास्ट मैरिज पर केंद्र सरकार ने 2013 में आर्थिक सहायता देने की योजना शुरू की थी। 

पहले सालाना पांच लाख रुपये तक की आमदनी वालों को इसका लाभ मिलता था। इसके बाद दिसंबर 2017 में मोदी सरकार ने इससे पांच लाख रुपये की अधिकतम सीमा को समाप्त करके सभी आय वर्गों को जोड़ दिया था। ये डॉ अंबेडकर स्कीम फॉर सोशल इंटीग्रेशन थ्रू इंटरकास्ट मैरिज योजना है।  इसके तहत सरकार इस तरह के दम्पत्तियों को ढाई लाख रुपए प्रदान करती है ।

किराएदारों और माकन मालिकों के लिए बनेगा नया कानून, तैयार हुआ ड्राफ्ट

बीच सड़क पर आराम फर्मा रहे थे शेर, गाड़ियों का लगा जाम और...

CCTV कैमरे में कैद हुआ BSF के ASI का जुर्म, दिल्ली एयरपोर्ट से हुआ गिरफ्तार