'भारत के लिए खेलते समय मेरी नींदें तक हराम थी..', सचिन तेंदुलकर ने किया बड़ा खुलासा

नई दिल्ली: एकदिवसीय और टेस्ट में सबसे अधिक रन बनाने का रिकार्ड अपने नाम रखने वाले, अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट में 100 शतक लगाने वाले एकलौते क्रिकेटर सचिन तेंदुलकर ने कहा है कि वह करीब 10-12 वर्षों तक तनाव से जूझते रहे. क्रिकेट के भगवान कहे जाने वाले टीम इंडिया के दिग्गज बल्लेबाज सचिन तेंदुलकर ने कहा है कि इंटरनेशनल क्रिकेट में कई साल बिताने के बाद भी उन्हें मैच से पहले उन्हें तनाव व्यग्रता से जूझना पड़ता था. 

सचिन तेंदुलकर ने अनएकेडमी के एक सेशन में कहा कि दबाव, तनाव व्यग्रता सब कुछ हमेशा बना रहता था. मेरे साथ यह था कि मैंने महसूस किया कि मेरी तमाम तैयारी शारीरिक रूप अच्छी से थी. लेकिन यह सब होने के बाद भी मैं हमेशा तनाव में रहता था. सचिन तेंदुलकर ने कहा कि उन्होंने वक़्त के साथ महसूस किया कि मानसिक रूप से मैच, सीरीज के लिए खुद को तैयार करना कितना अहम है. 

मास्टर ब्लास्टर सचिन तेंदुलकर ने कहा कि जब मैं भारत के लिए खेल रहा था, उस समय भी मेरी रातों की नींद हराम थी. समय के साथ, मैंने महसूस किया कि खेल के लिए शारीरिक रूप से तैयारी करने के अतिरिक्त, आपको खुद को मानसिक रूप से भी तैयार करना होगा. मैदान में एंटर करने से बहुत पहले से ही मेरे दिमाग में मैच आरंभ हो जाता था. तनाव का स्तर काफी अधिक था मैंने उन चीजों को स्वीकार करना सीख लिया.

पूर्व भारतीय ऑलराउंडर 'जडेजा' के निधन पर रवि शास्त्री ने दी श्रद्धांजलि, बोले- दोस्त को खो दिया

क्या फिर से होगी बॉल टैंपरिंग मामले की जाँच ? कैमरन बेनक्रॉफ्ट से क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया ने साधा संपर्क

विश्व शतरंज चैंपियन विश्वनाथन आनंद ने कोरोना राहत कोष के लिए जुटाए 50,000 अमेरिकी डॉलर

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -