इस साल अपने घरों में ही ईद मनाएंगे रवांडा के मुस्लिम, कोरोना महामारी की समाप्ति के लिए मांगेंगे दुआएं

इस साल अपने घरों में ही ईद मनाएंगे रवांडा के मुस्लिम, कोरोना महामारी की समाप्ति के लिए मांगेंगे दुआएं

किगाली: रवांडा के मुफ्ती, शेख सालेह हेटिमाना ने कहा है कि कोरोना वायरस के खिलाफ जंग को जारी रखने में मदद करने के लिए, इस वर्ष  रवांडा मुस्लिम रमजान के पूरे महीने और ईद उल फितरी तक अपने घरों में रहकर अल्लाह से प्रार्थना करेंगे। हेटिमाना ने द न्यू टाइम्स को बताया कि रवांडा मुस्लिम समुदाय ने फैसला किया है कि इन त्योहारों के मौकों पर जब आम तौर पर मुसलमान बड़े समूहों में एक साथ इकट्ठा होकर जश्न मनाते हैं, वहीं इस साल मुसलमान अपनी और समाज की सुरक्षा के लिए अलग तरीके से त्यौहार मनाएंगे।

उन्होंने आगे कहा कि “ईद-उल फितरी आम तौर पर दावत का दिन है। लोग एक दूसरे को आमंत्रित करते हैं, भोजन साझा करते हैं, और आम तौर पर जश्न मनाते हैं। हालांकि, इस साल, हमें अपने घरों में रहना होगा ताकि हम कोरोनोवायरस महामारी से निपटने के लिए सरकार द्वारा दिए गए दिशानिर्देशों का पालन कर सकें। यहाँ के लोग अपने घरों में प्रार्थनाएं करेंगे, जिसके बाद हेटिमाना एक विशेष प्रार्थना देंगे, जो राष्ट्रीय रेडियो और टेलीविजन पर प्रसारित की जाएगी।

आपको बता दें कि रमज़ान या रमदान इस्लामी कैलेण्डर का नवां महीना है। मुस्लिम समुदाय इस महीने को परम पवित्र मानता है। इस महीने में मुस्लिम समुदाय के लोग उपवास रखते हैं। उपवास के दिन सूर्योदय से पहले कुछ खालेते हैं जिसे सहरी कहते हैं। दिन भर न कुछ खाते हैं न पीते हैं। शाम को सूर्यास्तमय के बाद रोज़ा खोल कर खाते हैं जिसे इफ़्तारी कहते है। 

WHO एग्जीक्यूटिव बोर्ड के चेयरमैन बने डॉ. हर्षवर्धन ने संभाला पदभार, बोले- चुनौतियों से मिलकर लड़ेंगे

पुलिस फेडरेशन के अध्यक्ष ने दिया खास सन्देश, इस मानसिक बीमारी से जूझ रहे पुलिसकर्मी

जानलेवा साबित हो सकता है वेस्ट नाइल वायरस, जानें क्या है लक्षण