रूसी वैज्ञानिक ने खोजा अमर होने का फॉर्मूला

मॉस्को : एक रूसी वैज्ञानिक ने मनुष्य की लंबी उम्र और मनुष्य को अमर बनाने के लिए खुद पर ही एक प्रयोग कर डाला और इसके परिणाम भी अच्छे रहे, आज 2 सालों बाद तक उन्हें एक भी बार कोई फ्लू (संक्रमण) नहीं हुआ. हालांकि इस प्रयोग को लेकर अभी भी जाँच चल रही है. प्राप्त जानकारी किए अनुसार रूसी वैज्ञानिक अनातोली ब्रॉउचकोव 3.5 मिलियन साल पुराने बैक्टीरिया पर रिसर्च कर रहे हैं. उन्होने बसिलस एफ नामक इस बैक्टीरिया को अपने शरीर में प्रवेश करा दिया और आश्चर्य की बात तो यह है कि उनका तरीका अवैज्ञानिक था.

उनका दावा है कि करोंड़ों सालों से जिंदा यह वायरस बेहद शक्तिशाली है, जो अमर है. ऐसे में यह मनुष्य को भी अमर बना सकता है. रूसी वैज्ञानिक ने पहले इसे चूहे के ह्यूमन ब्लड सेल्स पर प्रयोग किया और परिणाम ठीक मिलने पर खुद पर आजमाने का फैसला किया.ब्रॉउचकोव मॉस्को विश्वविद्यालय में जियोक्रॉयोलॉजी डिपार्टमेंट के हेड हैं. 

अनातोली ब्रॉउचकोव कहते हैं कि मुझे नहीं लगता कि ये वॉयरस खतरनाक साबित हो सकता है. मैंने सीधे उसे अपने शरीर में इंजेक्ट किया. उन्होने कहा कि मैं नहीं बता सकता कि यह प्रयोग कितना सफल रहा क्योकि मेरे पास इसका कोई आंकड़ा नहीं है. पर मेरा 2 सालों तक स्वस्थ खड़े रहना ही इसकी सफलता की गारंटी है. अगर यह प्रयोग सफल रहता है तो आने वाली दुनिया की कल्पना करना भी मुश्किल है. 

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -