राज्यसभा में नोटबंदी का हंगामा, सोनिया ने कहा: मजबूती से लड़ें

Nov 16 2016 02:16 PM
राज्यसभा में नोटबंदी का हंगामा, सोनिया ने कहा: मजबूती से लड़ें

नई दिल्ली :  बुधवार को राज्यसभा में नोटबंदी को लेकर हंगामा खड़ा हो गया । विपक्षी दलों ने न केवल मोदी सरकार को नोटबंदी के मामले में घेरा वहीं दो हजार का नोट भी लहराया गया। इधर लोकसभा, पूर्व सदस्यों को श्रद्धांजलि देकर स्थगित हो गया। गौरतलब है कि बुधवार से सदन का शीतकालीन सत्र  शुरू हुआ।

केन्द्र की मोदी सरकार नोटबंदी के बाद से ही निशाने पर बनी हुई है। विपक्षियों ने राज्यसभा में सरकार को घेरा और यह आरोप लगाया कि नोटबंदी से सरकार को ही फायदा हुआ है, सरकार के फैसले से आम व्यक्ति को कितनी परेशानी हो रही है, इसका अंदाजा सरकार को नहीं है। विपक्षियों ने सदन की शुरूआती कार्रवाई से ही नोटबंदी को लेकर मोदी सरकार के खिलाफ मोर्चा खोल दिया था।

एक न्यूज़ पोर्टल के अनुसार, सोनिया ने अपने लोकसभा सांसदों से कहा है कि नोटबंदी के चलते लोगो को हो रही परेशानी के खिलाफ मजबूती से लड़ें और सरकार की नौटंकी नहीं चलने दें. लोकसभा में इस मुद्दे पर कार्यस्थगन का प्रस्ताव लाएगी.

सड़क पर उतरी ममता

नोटबंदी को लेकर विरोध दर्ज कराने वाली पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी  ने विरोध प्रदर्शन करने के लिये मार्च निकाला। अन्य प्रमुख कुछ विपक्षी दलों ने भी ममता का साथ निभाया और मार्च में शामिल हुये। राष्ट्रपति भवन पहुंचकर ममता तथा अन्य नेताओं ने ज्ञापन सौंपा तथा मांग की गई कि मोदी सरकार अपना फैसला वापस लें।

रंग छोड़ता है 2 हजार का नोट

कांग्रेस सदस्य आनंद शर्मा ने किसान, मजदूर से लेकर समाज के हर वर्ग को नोटबंदी से त्रस्त होना बताया और कहा कि मोदी सरकार यह मान रही है कि देश का हर व्यक्ति भ्रष्ट है, हर व्यक्ति के पास कालाधन है। शर्मा का आरोप था कि मोदी सरकार ने ढाई वर्ष तक क्या किया। दो हजार के नोट को लेकर भी शर्मा ने टिप्पणी की और कहा कि नया नोट रंग छोड़ता है तथा यह लोगों के किसी काम का नहीं।

दुःखी है जेटली

मायावती ने वित्त मंत्री अरूण जेटली को दुःखी बताया तथा कहा कि यदि मोदी में हिम्मत हो तो वे राज्यसभा में आकर नोटबंदी के मामले में जवाब दें। मायावती का कहना था कि नोटबंदी के कारण वित्त मंत्री जेटली को उन्होंने दुःखी देखा है।

खुश है ईमानदार लोग

विपक्ष के घेरे में आई मोदी सरकार का पक्ष रखने के लिये केन्द्रीय मंत्री पीयूष गोयल को आगे आना पड़ा। उन्होंने कहा कि सरकार के फैसले से देश के ईमानदार लोग खुश है। तकलीफ उन लोगों को हो रही है, जो कालाधन समेटे हुये है। नोटबंदी ईमानदारों और ईमानदारी का सम्मान बताते हुये गोयल का कहना है कि सरकार ने भ्रष्टाचारियों के खिलाफ ही यह फैसला लिया है।

सीताराम ने लहराया नोट

इधर सीताराम येचुरी ने भी सदन में 2 हजार का नया नोट लहराया और कहा कि इस नये नोट से लोग इसलिये डर रहे है कि कहीं मोदी सरकार इसे भी बंद न कर दें। नये नोट को उन्होंने किसी काम का नहीं बताया एवं कहा कि सरकार मनमर्जी से फैसला लेकर देशवासियों को परेशान कर रही है।