रोहिंग्या शरणार्थियों पर मंडराया बाढ़ का खतरा

ढाका:  बांग्लादेश के दक्षिणी पूर्वी हिस्से में आकर रह रहे सात लाख रोहिंग्या मुसलमानों के लिए मॉनसून का महीना आफत की तरह होगा. कॉक्स बाजार स्थित दुनिया के सबसे बड़े शरणार्थी कैंप में शरण लिए रोहिंग्या मुसलमान को बारिश का डर सता रहा है. फिसलनदार पहाड़ी के पास पनाह लिए शरणार्थियों को सबसे ज्यादा बारिश के दौरान जमीन धंसने और बाढ़ का डर सता रहा है.

पहाड़ी के पास रह रहे एक शरणार्थी ओसिउर रहमान बताते हैं कि बारिश के "मौसम में पहाड़ी पर से सारा पानी बहकर निचे आएगा , जिससे हमारे परिवार कि मौत हो जाएगी, हम डरे हुए हैं कि कहीं बारिश के कारन जमीं न धंसने लगे." गौरतलब है कि कॉक्स बाज़ार में लाखों लोगों ने शरण ले रखी है,  लेकिन हाल के दिनों में आने वाले शरणार्थियों ने बांस-बल्लियों और प्लास्टिक के सहारे पहाड़ी के पास अपना तंबू गाड़ा है और सबसे ज्यादा तकलीफ उन्हें ही है. रहमान भी बांस बल्लियों के मकान में अपने 9 सदस्यीय परिवार के साथ रहते हैं.

आपको बता दें कि बांग्लादेश में शरणार्थियों के लिए सुरक्षित स्थान की भारी कमी है, जिसके चलते लाखों शरणार्थियों को बाढ़ और भूस्खलन के खतरे के बीच ऐसे खतरनाक जगहों पर पनाह लेनी पड़ी है. इनमें से महज 21000 रोहिंग्या ही दूसरे स्थानों पर जा पाए हैं. स्थानीय न्यूज़ एजेंसी ने भी रोहिंग्या शरणार्थियों के इन हालातों पर चिंता जताई है. 

हाफ़िज़ पर मुकदमा चलाना पाक को पड़ेगा भारी- पूर्व ISI प्रमुख

ट्रंप-किम की मुलाकात पर बयानबाजी जारी है

भैंस और हिरण को निगल जाती है ये छिपकली

 

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -