सड़क मंत्रालय ने भारत में नए मॉडल टायरों के लिए मसौदा मानदंड किए जारी

सड़क मंत्रालय ने भारत में नए मॉडल टायरों के लिए मसौदा मानदंड किए जारी

सड़क परिवहन मंत्रालय नए मॉडल टायरों का मसौदा लेकर आया है। मसौदे के नियमों में कहा गया है कि कारों, बसों और ट्रकों के टायरों को रोलिंग प्रतिरोध, गीली पकड़ और रोलिंग ध्वनि उत्सर्जन की आवश्यकता को पूरा करना चाहिए। इन नियमों के साथ भारत सरकार टायरों की गुणवत्ता और विश्वसनीयता सुनिश्चित करने का लक्ष्य रखती है। 

मंत्रालय ने 1 अक्टूबर, 2021 से नए मॉडल के टायरों के लिए इस व्यवस्था का प्रस्ताव दिया है। मंत्रालय ने ट्वीट करने के लिए ट्विटर पर लिखा, "MoRT&H ने एक मसौदा अधिसूचना जारी की है जिसमें प्रस्ताव दिया गया है कि कारों, बसों और ट्रकों के टायर रोलिंग प्रतिरोध की आवश्यकताओं को पूरा करेंगे, समय-समय पर संशोधित ऑटोमोटिव उद्योग मानकों (एआईएस) 142:2019 के चरण- II में निर्दिष्ट वेट ग्रिप और रोलिंग ध्वनि उत्सर्जन है। 

टायरों के रोलिंग प्रतिरोध का ईंधन दक्षता पर प्रभाव पड़ता है, जबकि गीली परिस्थितियों में टायरों की वेट ग्रिप ब्रेक प्रदर्शन। रोलिंग ध्वनि उत्सर्जन गति में टायर और सड़क की सतह के बीच संपर्क से निकलने वाली ध्वनि से संबंधित है। ये मानदंड यूरोप में शासन के समान हैं, जिसे 2016 में मसौदा तैयार किया गया था। भारतीय परिवहन मंत्रालय ने इन मसौदा नियमों पर आपत्तियों और सुझावों के बारे में पूछा है जो एक व्यक्ति सरकार को भेज सकता है।

तमिलनाडु सरकार का बड़ा ऐलान, राज्य में 31 मई तक बढ़ाया गया सख्त लॉकडाउन

राजस्थान में कोरोना के साथ ही ब्लैक फंगस का भी कहर, 31 मई तक बढ़ सकता है लॉकडाउन

जर्मनी ने ब्रिटेन से आने वाले सभी यात्रियों पर लगाया अस्थायी प्रतिबंध