क्या आप भी लगातार पी रहे हैं RO का पानी, जानिए इससे होने वाली बीमारी के बारे में

आजकल लोग अपने घर में RO का इस्तेमाल करना नहीं भूलते. इससे पानी साफ होता है और आपको बीमारी से बचाता है. लेकिन लगातार RO का इस्तेमाल करना आपकी  सेहत के लिए बुरा भी हो सकता है. हर मौसम में RO आपको साफ पानी देता है और बीमारी से दूर रखता है. लेकिन क्या वास्तव में हम आर. ओ. के पानी को शुद्ध पानी मान सकते हैं ? इसी बारे में आपको बताने जा रहे हैं. अगर आप भी इस पानी को साफ़ मानते हैं तो आप गलत. ये हम नहीं बल्कि विश्व स्वास्थ्य संगठन(WHO) ने बताया है. 
 
दरअसल, विश्व स्वास्थ्य संगठन ने बताया कि इसके लगातार सेवन से हृदय संबंधी विकार, थकान, कमजोरी, मांसपेशियों में ऐंठन, सर दर्द आदि दुष्प्रभाव पाए गए हैं. यह कई शोधों के बाद पता चला है कि इसकी वजह से कैल्शियम और मैग्नीशियम पानी से पूरी तरह नष्ट हो जाते हैं जो कि शारीरिक विकास के लिए अत्यंत आवश्यक है. वैज्ञानिकों के अनुसार मानव शरीर 500 टीडीएस तक सहन करने की क्षमता रखता है परंतु RO में 18 से 25 टीडीएस तक पानी की शुद्धता होती है जो कि नुकसानदायक है. इसके विकल्प में क्लोरीन को रखा जा सकता है.

जी हाँ, क्लोरीन को रखने से ये फायदा होता है इसकी लागत भी कम होती है एवं पानी के आवश्यक तत्व भी सुरक्षित रहते हैं. जिससे मानव का शारीरिक विकास अवरूद्ध नहीं होता. जहां एक तरफ एशिया और यूरोप के कई देश RO पर प्रतिबंध लगा चुके हैं वहीं भारत में RO की मांग लगातार बढ़ती जा रही है. याद रखें की लम्बे समय तक RO का पानी, लगातार पीने से, शरीर कमजोर और बीमारियों का घर बन जाता है. 

सोशल मीडिया पर दिनभर बिताते हैं समय तो हो गए हैं आप बीमार

लगातार बैठे रहने से आपके भी बट में होता है दर्द तो ये चीज़ करेगी मदद

वेजिटेरियन लोगों को करना चाहिए मुनक्के का सेवन

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -